भई वाह! यहां ये बेटी बनी कड़ी मेहनत से IAS! बड़ी दिलचस्प है सफलता की कहानी।

मेहनत एक ऐसा रास्ता है जिस पर यदि कोई चल पड़ा तो सफलता उसे अवश्य नसीब होती है। जिंदगी में हम कई ऐसी कहानियां सुनते या पढ़ते हैं जो हमारी प्रेरणा स्त्रोत बन जाती है, पर कुछ कहानियां ऐसी होती है जो सबसे हटकर एक अमिट छाप छोड़ जाती है। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी से रूबरू कराने जा रहे हैं, जिसकी मुख्य पात्र ने अपनी मेहनत और लगन के जरिए देश की सबसे कठिन परीक्षा यूपीएससी को पास कर सभी को चौंका दिया।

अक्सर हम ऐसी स्थिति पर आते हैं, जहां पर हमें अपनी नौकरी या पैशन से समझौता करना पड़ता है और दोनों में से किसी एक रास्ते को चुनना पड़ता है। आपने अक्सर लोगों को यह कहते हुए सुना होगा की नौकरी के साथ सरकारी परीक्षाओं की तैयारी नहीं हो पाती। परंतु इस बात को गलत साबित करते हुए, नेहा ने पूरी दुनिया में लगन और मेहनत का एक शानदार उदाहरण पेश किया है। पश्चिम बंगाल की रहने वाली नेहा बनर्जी ने 9 से 5 की नौकरी के साथ, पहले ही प्रयास में सिविल सेवा को क्रैक कर दिखाया है।

नेहा का जन्म साल 1995 में पश्चिम बंगाल में हुआ था। वह मूल रूप से कोलकाता की रहने वाली है। नेहा ने अपनी दसवीं की पढ़ाई कार्मल स्कूल से पूरी की। यहां उन्हें दसवीं टॉप करने पर मुख्यमंत्री अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था। इसके बाद नेहा बनर्जी ने साउथ प्वाइंट हाई स्कूल से अपनी हायर सेकेंडरी की पढ़ाई पूरी की। नेहा ने 12वीं के बाद आईआईटी की परीक्षा पास कर, आईआईटी खड़पुर में दाखिला लिया। यहां उन्होंने इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन किया। इंजीनियरिंग की डिग्री पूरी होते ही उन्हें एक बड़ी कंपनी में अच्छी सैलरी पैकेज पर जॉब मिल गई। लेकिन नेहा की मंजिल इस से भी आगे कहीं थी। वह आईएएस अधिकारी बनकर देश की सेवा करना चाहती थीं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: हल्द्वानी के इस स्कूल ने की, बच्चों के भविष्य के लिए गजब की पहल

अपने सपने को साकार करने के लिए नेहा ने अपना खुद का रास्ता चुना। नेहा बनर्जी ने 9 से 5 की फुल टाइम जॉब के साथ यूपीएससी की तैयारी भी शुरू कर दी। वह सुबह जल्दी उठकर और जॉब से लौटकर आने के बाद पढ़ाई किया करती थीं। इसके अलावा वीकेंड पर भी पढ़ाई के लिए वक्त निकाला करती थी। उन्होंने यूपीएससी के इंटरव्यू के लिए कई कोचिंग में फ्री में मॉक इंटरव्यू दिए और साथ ही यूट्यूब की भी मदद ली। अपनी छुटि्टयों का इस्तेमाल नेहा ने यूपीएससी की पढ़ाई के लिए किया और आखिरकार सफलता उन्हें मिल ही गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि की इस बेटी ने किया उत्तराखंड का सिर गर्व से ऊचां, सब को है इस पर नाज!

नेहा ने साल 2019 में पहली बार यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा दी। वे पहले ही अटेम्प्ट में यूपीएससी के तीनों राउंड क्लियर कर फाइनल में सिलेक्ट हो गई। नेहा अपने पहले ही प्रयास में ऑल इंडिया 20वीं रैंक हासिल करके आईएएस अफसर बनने में कामयाब रहीं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार नेहा का इंटरव्यू करीब 35 मिनट हुआ था। जब रिजल्ट जारी हुआ तो उन्होंने यूपीएससी सिविल सेवा 2019 शानदार रैंक के साथ क्लियर किया। फिलहाल वह पश्चिम बंगाल कैडर की आईएएस अधिकारी हैं। वह सोशल मीडिया पर भी सक्रिय हैं। इंस्टाग्राम पर उनके 75000 फॉलोवर हैं।