उत्तराखंड: आखिर क्यों महज 19 साल में ही अंकिता निकल पड़ी नौकरी करने को? पढ़िए पूरी खबर

Uttrakhand News: राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले के डोभ श्रीकोट की रहने वाली अंकिता भंडारी की जिस निर्मम तरीके से हत्या करी गई वह बेहद दर्दनाक और इंसानियत को शर्मसार करने वाली है। आज जस्टिस फॉर अंकिता की गूंज से पूरी उत्तराखंड कि धरती गूंज रही है। ऐसे में सवाल यह उठा है कितनी नन्ही सी उम्र में अंकिता को नौकरी करने की आखिर क्या मजबूरी आ गई थी ?

तो आज हम आपको बताते हैं कि क्यों आखिर अंकिता को 19 साल में रिसोर्ट की नौकरी करनी पढ़ी। दरअसल अंकिता बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखती थी।

परिवार की आर्थिक सुधारने के लिए अंकिता ने खुद जिम्मेदारी उठाई थी। जिसके लिए उसने वनंत्रा रिजॉर्ट में काम करने का फैसला लिया। भविष्य के गर्भ में क्या है ये उस मासूम को कहां पता था ।

यह भी पढ़ें 👉  मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने पत्रकार कल्याण कोष एवं मुख्यमंत्री पत्रकार सम्मान पेंशन योजना हेतु आयोजित समिति के प्रस्ताव को दिया अनुमोदन।

आपको बता दें कि अंकिता का परिवार कोरोना काल से अपने पैतृक गांव में ही रह रहा था। कोरोना काल में काम बंद हो जाने व कमरे का किराया न दे पाने के कारण
अंकिता के पिता विरेन्द्र अपने पूरे परिवार को पौड़ी से लेकर अपने गांव लौट आए थे। अंकिता पढ़ाई में बहुत अच्छी थी। अंकिता ने पौड़ी के एक प्रतिष्ठित स्कूल से इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी करने के उपरांत देहरादून से होटल मैनेजमेंट का कोर्स किया था। लेकिन आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण अंकिता को सिर्फ 1 साल में ही देहरादून से वापस लौटना पड़ा अपने होटल मैनेजमेंट के कोर्स को बीच में आधा छोड़कर और वापस घर आना पड़ा । जिसके बाद अंकिता ने वनंत्रा रिजॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट के पद पर नौकरी ज्वाइन की थी। ताकि वह अपने परिवार की आर्थिक स्थिति को सुधार सकें भविष्य में होने वाली अपनी जान के खतरे को वो भाप न सकी।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) अंकिता हत्याकांड के बाद गिरी गाज, पिता और भाई भाजपा से निष्कासित, सीएम धामी ने भी लिया एक्शन

रिसॉर्ट के मालिक ने कई बार उससे अपने साथ शारीरिक संबंध बनाने को कहा इतना ही नहीं रिजल्ट में आने वाले लोगों को स्पेशल सर्विस देने को भी कहा । किंतु अंकिता गरीब अवश्य थी लेकिन अपनी इज्जत के साथ कोई भी समझौता उसे मंजूर नहीं था और उसने पैसे से ऊपर अपने आत्मसम्मान और अपनी इज्जत को रखा यह बात रिजॉर्ट के मालिक को सहन नहीं हुई और उस दरिंदे मालिक ने कुछ लोगों के साथ मिलकर निर्मम तरीके से अंकिता की हत्या कर दी।