उत्तराखंड: पहाड़ के मनीष ने किया देवभूमि का नाम रोशन , गुवाहाटी में इस पद पर हुआ चयन

Uttarakhand News :पिथौरागढ़ में राजकीय इंटर कॉलेज के पूर्व छात्र रहे जनपद मुख्यालय पिथौरागढ़ निवासी डॉ मनीष भट्ट का चयन आईआईटी गुवाहाटी के इलेक्ट्रॉनिक्स और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर हुआ है।

मनीष की उल्लेखनीय सफलताओं से उनके गुरु जन उनके परिजन और उनके मित्र बहुत अधिक खुश हैं। उन्होंने अथक परिश्रम और धैर्य से यह सफलता हासिल की है। मनीष का अकादमिक प्रदर्शन शानदार रहा है ।मनीष ने अमेरिका कनाडा सहित कई देशों में जाकर अपने शोध पत्र प्रस्तुत किए हैं ।जिन्हें विश्व के वैज्ञानिकों से काफी सराहना मिली है।

यदि मनीष के अतीत की बात करें तो उन्होंने दयानंद स्कूल पिथौरागढ़ से दसवीं की परीक्षा पास की। उत्तराखंड बोर्ड की मेरिट सूची में नौवें स्थान पर रहे थे। उन्होंने राजकीय इंटर कॉलेज पिथौरागढ़ से 12वीं पास की।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड:CM धामी की बढ़ी लोकप्रियता ! मिला ये स्थान

उत्तराखंड बोर्ड की मेरिट सूची में उनका 15वां स्थान रहा था । इसके बाद उन्होंने आईआईटी हमीरपुर हिमाचल प्रदेश से बीटेक और प्रतिष्ठित संस्थान आईआईएससी बेंगलुरु से पीएचडी की। इसके बाद उन्होंने कनाडा में विश्वविद्यालय से पोस्ट डॉक्टरेट और विश्व प्रसिद्ध जॉन्स हापकिंस विश्वविद्यालय बाल्टीमोर और अमेरिका से रिसर्च साइंटिस्ट की उपाधि हासिल की है।

यह भी पढ़ें 👉  Nainital-अमेरिका में कुमाऊं विवि का दबदबा, प्रो. नंद गोपाल प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों की सूची में शामिल

मनीष सीमांत तहसील धारचुला के दूरस्थ गांव से के मूल निवासी हैं। वर्तमान में पिथौरागढ़ में उनका परिवार रहता है। उनके पिता डॉक्टर धर्मानंद भट्ट राजकीय महाविद्यालय बलवा कोट में प्राध्यापक हैं । मनीष ने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता परिजन और उनके शिक्षकों को दिया है । मनीष के चयन पर उनके शिक्षक और पिथौरागढ़ के लोगों ने उन्हें बधाइयां दी है ।