उत्तराखंड: देवभूमि के इस समाजसेवी ने दरिया दिली की पेश की ऐसी मिसाल, की जान के हो जाएंगे हैरान

Uttarakhand News: वैसे तो दुनिया में एक से बढ़कर एक महादानी मौजूद है परंतु लालकुआं विधानसभा क्षेत्र के हल्दूचौड़ ग्राम कृष्णा नवाण निवासी पूरन चंद्र सुनाल पिछले लंबे समय से क्षेत्र में दानवीर के रूप में अपनी पहचान बनाते जा रहे हैं, अपने देह (शरीर) का दान करने वाले पूरन चंद्र सुनाल ने वर्ष 2020 में अपनी डेढ़ बीघा जमीन तथा भवन को स्वास्थ्य महकमे को दान दे दिया था ।

पूरन चंद्र सुनाल द्वारा परोपकार के लिए जहां अपने जीवन उपरांत शरीर का दान देने की घोषणा की है वहीं उन्होंने जन स्वास्थ्य की दृष्टि के मद्देनजर भी डेढ़ बीघा जमीन मय भवन के स्वास्थ्य विभाग को देने की घोषणा की हैं। इधर उन्होंने नेशनल हाईवे के चौड़ीकरण को देखते हुए हल्दूचौड़ पुलिस चौकी के लिए अपने ही आवास के समीप आधा बीघा जमीन पुलिस चौकी को भी देने की घोषणा कर दी है।

पूरन चंद सुनाल ने कहा कि नेशनल हाईवे के चौड़ीकरण होने से पुलिस चौकी के इस स्थान पर बने रहने को लेकर संशय बरकरार है, लिहाजा क्षेत्र में कानून व्यवस्था और सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस चौकी का होना नितांत आवश्यक है। इसके लिए उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल को पत्र लिख कर अपनी आधा बीघा जमीन देने की घोषणा की है, उन्होंने भेजे गए पत्र में यह भी अनुरोध किया है कि उक्त जमीन पर निर्माण कार्य पुलिस विभाग द्वारा करवाया जाए।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून -(बड़ी खबर) इन तीन अधिकारियों को भेजा गया उत्तरकाशी

गौरतलब है कि हल्दूचौड़ के कृष्णा नवाड़ गांव निवासी स्वर्गीय गोविंद बल्लभ सुनाल के पुत्र पूरन चंद्र सुनाल के अंदर परोपकार की भावनाकूट-कूट कर भरी है, जहां पूर्व में उन्होंने डेढ़ बीघा जमीन स्वास्थ्य केंद्र के लिए दान दे दी। वहीं उन्होंने जीवन पश्चात अपना शरीर भी दान दिए जाने का शपथ पत्र प्रस्तुत कर दिया है। इधर उनके द्वारा आधा बीघा जमीन पुलिस चौकी के लिए दिए जाने की घोषणा के बाद क्षेत्र में खुशी की लहर व्याप्त है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- उत्तराखण्ड के नंबर वन Tech Creater बने हल्दूचौड़ के दिग्विजय, साइबर सिक्योरिटी को लेकर जबरदस्त काम

आज के जमाने मे जहां लोग 1 इंच जमीन के लिए लोग खून खराबे पर उतारू हो जाते हैं, वहीं पूरन चंद्र सुनाल अपनी नेक दिली और दरिया दिली से ऐसे लोगों के लिए एक मिसाल कायम कर रहे हैं, कि अपने जीते जी अवश्य परोपकार किया जाना चाहिए।