उत्तराखण्ड: देवभूमि के इस पुलिस अफसर मिला को भारत के बेस्ट साइबर कॉप का अवार्ड,

Uttrakhand News : देवभूमि को हर तरह से यूं ही बेस्ट नहीं कहा जाता। बल्कि इसके पीछे कई सारी उपलब्धियां छिपी होती हैं। उत्तराखंड के युवाओं द्वारा तो लगातार प्रदेश का नाम रोशन होता ही रहा है। लेकिन राज्य की पुलिस भी किसी से पीछे नहीं है। उत्तराखंड के एक पुलिस ऑफिसर (Uttarakhand police officer) ने देश के सबसे बेस्ट साइबर कॉप बनकर यह सिद्ध कर दिया। अंकुश मिश्रा ने देवभूमि को देशभर में गौरवान्वित महसूस करवाया है।

राज्य की पुलिस को हमेशा से ही मित्र पुलिस का दर्जा दिया जाता है। उत्तराखंड पुलिस की कोशिशें हमेशा रहती हैं कि लोगों से सामंजस्य बैठाकर सारा काम किया जाए। इसकी कई सारी बानगी हमें कोरोना काल के दौरान भी दिखीं। इस बार उत्तराखंड के लिए पुलिस की तरफ से एक और गर्व का मौका आया है। राज्य पुलिस के सीओ साइबर अंकुश मिश्रा (CO Cyber Ankush Mishra) ने देश के सर्वश्रेष्ठ साइबर कप में पहला स्थान प्राप्त किया है।

बता दें की डाटा सिक्योरिटी काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा नई दिल्ली में 16वें डीसीएसआई एक्सीलेंस अवार्ड 2021 आयोजित किया गया। जिसमें पूरे देश से तीन साइबर कॉप को चुना गया। इसमें उत्तराखंड के अंकुश मिश्रा को सर्वश्रेष्ठ साइबर कॉप (Best cyber cop of country) के लिए अवार्ड मिला है। गौरतलब है कि इस प्रतियोगिता में देश के सभी राज्यों के प्रतिनिधियों द्वारा प्रतिभाग किया गया था।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: सरकारी शिक्षिका होने का फर्ज निभा रही हैं देवभूमि की पिंकी पवार

बता दें की डाटा सिक्योरिटी काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा नई दिल्ली में 16वें डीसीएसआई एक्सीलेंस अवार्ड 2021 आयोजित किया गया। जिसमें पूरे देश से तीन साइबर कॉप को चुना गया। इसमें उत्तराखंड के अंकुश मिश्रा को सर्वश्रेष्ठ साइबर कॉप (Best cyber cop of country) के लिए अवार्ड मिला है। गौरतलब है कि इस प्रतियोगिता में देश के सभी राज्यों के प्रतिनिधियों द्वारा प्रतिभाग किया गया था।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि की इस बेटी पर है सबको नाज, पैकेज मिला 7.5 लाख का

अशोक कुमार ने भी अंकुश मिश्रा को बधाई दी है। बता दें कि उत्तराखंड पुलिस महानिदेशक (Uttarakhand Police DGP) के निर्देश पर एसटीएफ एसएसपी के पर्यवेक्षण में पुलिस उपाधीक्षक साइबर क्राइम स्पेशल टास्क फोर्स अंकुश मिश्रा को नामित किया गया। देश भर से हर एक राज्य द्वारा लगभग 55 साइबर मामलों का प्रस्तुतीकरण किया गया। जिनमें अंत में 3 मामलों का चयन कर सूची जारी की गई। इस सूची में क्रमश: स्पेशल टास्क फोफोर्स उत्तराखंड (Special Task Force Uttarakhand), आंध्र पुलिस और सीआईडी कर्नाटक को स्थान प्राप्त हुआ।