उत्तराखंड- देवभूमि की यह बेटी 21 साल की उम्र में BARC में बनी वैज्ञानिक, गांव का नाम किया रोशन

चमोली- उत्तराखंड के चमोली जिले की निधि सिरस्वाल ने इलाके का नाम रोशन किया है. 21 साल की निधि का भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर (Bhabha Atomic Research Center-BARC) में वैज्ञानिक के पद पर चयन हुआ है. निधि के पिता भोला दत्त सिरस्वाल अध्यापक हैं और वर्तमान में राजकीय इंटर कॉलेज मरोड़ा में कार्यरत हैं.

गैरसैंण इलाके के लिए गौरवशाली क्षण है. डुंगरी गांव की निधि सिरस्वाल ये गौरव का पल लाई हैं. निधि का चयन BARC में वैज्ञानिक के रूप में हुआ है. इसके लिए पहले ऑनलाइन रिटर्न एग्जाम हुआ था. 24 सितंबर 2021 को हुए इस रिटर्न एग्जाम में निधि शॉर्ट लिस्ट हुई थी. 12 नवंबर 2021 को इंटरव्यू हुआ. इंटरव्यू मुंबई के अणु शक्ति नगर में हुआ था. 30 नवंबर को घोषित हुए रिजल्ट में निधि का चयन हो गया. निधि का इंटरव्यू करीब 80 मिनट चला.

निधि शुरू से ही मेधावी रही हैं. मेधावी निधि ने हाईस्कूल की परीक्षा 90 प्रतिशत, इंटरमीडिएट की परीक्षा 89, स्नातक की परीक्षा 84 प्रतिशत और पीजी की परीक्षा 80 फीसदी अंकों के साथ पास की है. निधि की उच्च शिक्षा दिल्ली विश्वविद्यालय से हुई है. निधि ने ग्रेजुएशन दिल्ली यूनिवर्सिटी के गुरु तेगबहादुर खालसा कॉलेज से किया है. पीजी हंसराज कॉलेज से पास किया है.

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी-(बड़ी खबर) बोर्ड परीक्षा के मद्देनजर इन इलाकों में लगी धारा 144

निधि के पापा भोला दत्त सिरस्वाल भी बहुत मेधावी थे. गणित और विज्ञान में वो श्रेष्ठ थे. वह बहुत गरीब परिवार से आते थे. उनके सिर से पिता का साया जल्द उठ गया था, इसलिए खेती-बाड़ी में मां की मदद करते थे. नकद आय का कोई स्रोत नहीं था. जिसकी वजह से वह सुबह खेतों में काम करने के बाद पढ़ाई करने वह गैरसैंण तक सात-आठ किलोमीटर की दूरी पैदल जाते थे.