उत्तराखंड: देवभूमि के ये 16 युवा हुए सफल, जज बन योगेश ने रचा इतिहास!

position:- बीते सोमवार, उत्तराखंड लोक सेवा आयोग द्वारा उत्तराखंड न्यायिक सेवा सिविल न्यायाधीश परीक्षा 2022 का परिणाम जारी कर दिया गया। इस परीक्षा में उत्तराखंड से कुल 16 युवाओं ने सफलता हासिल की, जिनमें ऋषिकेश के विशाल ठाकुर पहले नंबर पर रहे। बताते चलें कि आयोग ने पिछले साल 5 दिसंबर से 9 दिसंबर तक मुख्य परीक्षा आयोजित कराई थी। इसके बाद 30 अप्रैल से 3 मई तक आयोग द्वारा कंप्यूटर परीक्षा व साक्षात्कार कराया गया था। इस के बाद सोमवार को जब आयोग द्वारा परीक्षाफल घोषित किया गया तो पूरे राज्य में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। आयोग द्वारा वेबसाइट पर कटऑफ़ मार्क्स भी जारी कर दिए गए हैं।

योगेश ने हार को बनाई प्रेरणा और पूरा किया सपना

उत्तराखंड पीसीएस-जे-2023 में ऋषिकेश निवासी योगेश गुप्ता ने तीसरी रैंक हासिल की है। बताते चलें कि वर्ष 2022 में योगेश ने दिल्ली पीसीएस-जे की भी परीक्षा दी थी। इस परीक्षा में वे इंटरव्यू तक पहुंचकर, अंतिम चयन में महज 15 अंकों से रह गए थे। इसके बावजूद भी योगेश ने हार नहीं मानी और कड़ी मेहनत व लगन के बल पर आज जज बनने का अपना सपना पूरा कर दिखाया है। योगेश देश के मुख्य न्यायाधीश डीवाइ चंद्रचूड़ से खासा प्रभावित हैं और उन्हें न्यायिक सेवा में अपना आदर्श मानते हैं। योगेश की इस उपलब्धि से पूरे क्षेत्र और राज्य में खुशी का माहौल है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी-(बड़ी खबर) जल जीवन मिशन में सब्बल से पाइप मोड़ कर चला रहे काम, एल्बो और मिनी बैंड गायब, DM को शिकायत

उत्तराखंड में 16 युवाओं ने मारी बाज़ी

आयोग के परीक्षा नियंत्रक अवधेश कुमार सिंह ने जारी किए गए परिणाम में बताया कि उत्तराखंड में विशाल ठाकुर के अलावा श्रृष्टि बनियाल, योगीश गुप्ता, प्रज्ञा तिवारी, परमिंदर कौर, प्रिया अग्रवाल, अनुभूति गोयल, अश्मिता चौहान, गुंजन सिसौदिया, मोहम्मद वसीक, काजल रानी, नेहा, धनिष्ठ आर्य, आकाश कुमार, परितोष और ज्योति सिंह ने परीक्षा पास की है।