उत्तराखंड: यहां अंतरराष्ट्रीय वन्य जीव तस्कर भालू की दुर्लभ पित्त (अनुमानित 20 लाख रुपये) के साथ गिरफ्तार!

उत्तराखंड राज्य में वन्य जीव तस्कर की दस्तक बढ़ती जा रही है वही एसटीएफ द्वारा चमोली के थराली से एसटीएफ कुमाऊं,चमोली पुलिस,पिंडर वन रेंज टीम और वाइल्डलाइफ क्राइम ब्यूरो की सयुक्त टीम द्वारा देवाल हॉस्पिटल तिराहे से 2 अंतरराष्ट्रीय वन्य जीव तस्कर को 4 भालुओ की 460 ग्राम की पित की थैली के साथ गिरफ्तार किया गया,इनके द्वारा भालूओ की पित की थैली को सुखा कर इसको अंतरराष्ट्रीय बाजार में बेचने जा रहे थे,जिनको एसटीएफ और अन्य टीमों ने सयुक्त रूप से गिरफ्तार किया।

बद्रीनाथ वन प्रभाग गोपेश्वर,चमोली पुलिस व एसटीएफ कुमाऊं रेंज ने संयुक्त कार्यवाही में भालू की दुर्लभ पित्त के साथ दो अभियुक्तों को किया गिरफ्तार किया गया है।पुलिस तथा वन विभाग की संयुक्त कार्यवाही में भालू (वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन एक्ट के तहत शेड्यूल वन में संरक्षित जीव) की दुर्लभ 460 ग्राम पित्त बरामद की गई है। प्रभागीय वनाधिकारी बद्रीनाथ वन प्रभाग सर्वेश कुमार दुबे के निर्देशानुसार वन्य जीव जंतुओं की अवैध तस्करी में लिप्त तस्करों की अवैध गतिविधियों की रोकथाम हेतु वन विभाग तथा चमोली पुलिस द्वारा लगातार तस्करों की धरपकड़ की जा रही है।

पूर्वी पिंडर रेंज देवाल तथा थाना थराली पुलिस द्वारा एसटीएफ कुमाऊं रेंज की टीम के साथ संयुक्त रुप से कार्यवाही कर हॉस्पिटल तिराहा देवाल के पास से दो वन्य जीव तस्कर बलवन्त सिंह बिष्ट पुत्र हिम्मत सिंह निवासी ग्राम वाण थाना थराली उम्र 55 वर्ष व मेहरबान सिंह बिष्ट पुत्र चन्द्र सिंह निवासी कुलिंग थाना थराली उम्र- 66 वर्ष को गिरफ्तार किया गया जिनके कब्जे से क्रमश 284 ग्राम व 176 ग्राम भालू की पित्त बरामद की गयी।जिसकी अनुमानित कीमत 20 लाख रुपए बताई गई है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड :पवनदीप राजन और अरुणिता का रोमांटिक SONG मंजूर दिल…देखें Video…

अभियुक्तों के विरुद्ध थाना थराली में मुअसं- 19/2024, वन्य जीव (संरक्षण) अधिनियम,1972 धारा 2/9/50/51 के अंतर्गत पंजीकृत किया गया है।