नहीं रहे मशहूर गजल गायक पंकज उडास! अपनी गायकी से बनाई लोगो के दिलों में खास जगह !

पंकज उडास का जन्म 17 मई 1951 गुजरात के जेतपुर में हुआ था । वे एक भारतीय ग़ज़ल और पार्श्व गायक थे, जो हिंदी सिनेमा और भारतीय पॉप में अपने काम के लिए सदा जाने जाएंगे ।

उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1980 में आहट नामक एक ग़ज़ल एल्बम के रिलीज़ के साथ की और उसके बाद 1981 में मुकरार , 1982 में तरन्नुम , 1983 में महफ़िल , 1984 में रॉयल अल्बर्ट हॉल में पंकज उधास लाइव , 1985 में नायाब और 1986 में आफरीन जैसी कई हिट फ़िल्में रिकॉर्ड कीं। ग़ज़ल गायक के रूप में उनकी सफलता के बाद, उन्हें महेश भट्ट की एक फिल्म , नाम में अभिनय करने और गाने के लिए आमंत्रित किया गया ।

पंकज उडास को 1986 की फिल्म नाम में गाने से प्रसिद्धि मिली, जिसमें उनका गाना “चिट्ठी आई है” तुरंत हिट हो गया था । इसके बाद उन्होंने कई हिंदी फिल्मों के लिए पार्श्वगायन किया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- पहाड़ की इस बेटी के जज्बे को सलाम, ऐसे निभाई जिम्मेदारी और कायम की बड़ी मिसाल

दुनिया भर में एल्बम और लाइव कॉन्सर्ट ने उन्हें एक गायक के रूप में प्रसिद्धि दिलाई। 2006 में, पंकज उदास को भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था ।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी/हल्दूचौड़- MBPG हल्द्वानी और LBS हल्दूचौड़ की टोटल वोटिंग UPDATE

पंकज उडास का कैंसर के कारण निधन हो गया है। उनके निधन की पुष्टि उनकी बेटी नायाब उडास ने की। परिवार ने कहा, “बहुत भारी मन से, हम आपको लंबी बीमारी के कारण( आज 26 फरवरी, 2024 को )पद्मश्री पंकज उदास के दुखद निधन के बारे में सूचित करते हुए बहुत दुखी हैं।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) कैबिनेट द्वारा लिये गये महत्वपूर्ण निर्णय, पढ़िए विस्तार से..

पंकज अपनी दिल को छू लेने वाली आवाज के लिए सदा इस दुनिया मे जाने जाएंगे , uk positive news पंकज उडास को श्रद्धांजलि अर्पित करता है ।