उत्तराखंड: नैनीताल जिले की ये है शानदार जगह, बार – बार आकर भी नही भरेगा आपका दिल

Uttarakhand news: नैनीताल से लगभग 24 किमी और भीमताल से 5 किमी की दूरी पर नौकुचियाताल झील है। यह क्षेत्र की सबसे गहरी (135 फीट) और संभवत: सबसे शांत झील है जिसे झील जिले का नाम मिला है। झील को स्थानीय बोली में इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें नौ एकतरफा कोने हैं।

घने, हरे-भरे जंगलों से घिरा नौकुचियाताल एक बहुत ही आकर्षक स्थल है, जो अपने आकर्षक करिश्मे से सभी को मंत्रमुग्ध कर देता है। वन हिमालयी वनस्पतियों और जीवों के ढेरों का घर हैं और प्रकृति की गोद में लंबी सैर के लिए पर्याप्त अवसर प्रदान करते हैं।

1820 के पहले वर्षों में अंग्रेज धीरे-धीरे कुमाऊं की खोज कर रहे थे। बिशप हाइबर के नाम से एक जेसुइट मिशनरी ने भारत के उत्तरी भाग में अपनी यात्रा के दौरान खुद को हिमालय की तलहटी में पाया। वह हल्द्वानी-काठगोदाम के पास गौला नदी पार कर कालीचौद होते हुए नौकुचियाताल पहुंचे। हाइबर द्वारा अपनाया गया मार्ग कुमाऊं के इतिहास और राजनीति में रोहिल्लाओं के साथ लड़ाई सहित कुछ प्रमुख घटनाओं का गवाह रहा है। नौकुचियाताल और उसके आसपास कई ऐतिहासिक स्थल हैं जिन्हें जिज्ञासु आत्माओं द्वारा खोजा जा सकता है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि के इस युवा को मशहूर संगीतकार और फिल्म निर्देशक के साथ काम करने का मिला मौका

नौकुचियाताल प्राकृतिक सौंदर्य और समाज का बेजोड़ मेल है। ओक और व्हिस्परिंग विलो से घिरा, यह सुंदर और साफ-सुथरा झील शहर पर्यटकों और यात्रियों द्वारा पूरे साल भर आता है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- 3 दिन में तीन लाख के करीब पहुंचा पवन पहाड़ी का बाना परुली गीत, यूट्यूब में मचा रहा धमाल

भीमताल और सातताल झीलों का समूह नौकुचियाताल के आसपास के क्षेत्र में स्थित है। भीमताल झील के बीच में एक छोटा सा टापू है जहां आकर्षक मछलियों के साथ एक एक्वेरियम का निर्माण किया गया है। भीमताल 16वीं सदी के भीमेश्वर मंदिर की नावें भी चलाता है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड :पांच साल का इंतजार खत्म होगा ! उत्तराखंड में मेट्रो स्टेशनोें के नाम कुछ इस प्रकार होंगे

नौकुचियाताल से लगी पहाड़ियां हाल के वर्षों में पैराग्लाइडिंग के शौकीनों की पसंदीदा बन गई हैं।