उत्तराखंड: अजब मगर सच! यहां इस बेटी ने मात्र सुनकर क्रैक की यूपीएससी परीक्षा!

कभी-कभी ईश्वर इंसानों के साथ न्याय नहीं करता। उन्हें किसी न किसी प्रकार से शारीरिक रूप से विकृत बनाकर इस धरती पर भेज देता है लेकिन इंसान के अंदर यदि जज्बा हो तो क्या नहीं कर सकता। वह असंभव को भी संभव बना सकता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है राजधानी दिल्ली की रानीखेड़ा की रहने वाली एक दिव्यांग छात्रा आयुषी ने। आयुषी दृष्टिहीन होने के बावजूद भी यूपीएससी में 48वाँ स्थान हासिल करने में वो सफल रही । इस कभी न भूल पाने वाली सफलता को पाकर उन्होंने सबको चौंका दिया है। दिव्यांग होते हुए भी जो उन्होंने किया है वो सब को हैरान करने वाला तो है साथ ही उन्होंने जिस हिम्मत और आत्मविश्वाश से खुद को सफल बनाने की चेष्ठा की । वो सब के लिए प्रेणनादायक है।

कैसे करी तैयारी-

आयुषी ने UPSC क्रैक करने के लिए यूट्यूब की मदद ली। यूट्यूब पर वीडियो के जरिए उन्होंने अपनी यूपीएससी की तैयारी करी ।आपको बताते चले की आयुषी अभी मात्र 30 वर्ष की है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : क्या है विशेषता देवभूमि के प्रसिद्ध पंचप्रयाग की, जानिए

यदि बात करी जाए आयुषी के विद्यार्थी जीवन की तो आयुषी स्कूल लेवल पर भी हमेशा से टॉपर रही है और कॉलेज में भी उन्होंने हमेशा टॉप किया है। वर्तमान में आयुषी मुबारकपुर के एक स्कूल में हिस्ट्री की अध्यापिका है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी -(बड़ी खबर) कुमाऊं कमिश्नर ने इस अधिकारी के खिलाफ एक्शन की संस्तुति की

आयुषी के अनुसार उन्हें यूपीएससी की तैयारी करने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाता था इसलिए उन्होंने अपना एक टाइम टेबल सेट कर लिया था । वह रात में कम सोती थी और स्कूल से लौट कर जितना भी टाइम उन्हें मिलता था उस बीच में पढ़ाई करती थी ।

उन्होंने यूपीएससी क्रैक करने के लिए किसी भी कोचिंग का सहारा नहीं लिया । सिर्फ और सिर्फ यूट्यूब के वीडियो सुनकर के उन्होंने यूपीएससी की तैयारी करी और आज सफलता पाई है। यदि बात की जाए आयुषी के माता-पिता की , तो उनकी माता का नाम श्रीमती आशा रानी है जो की सीनियर नर्सिंग ऑफिसर पद से रिटायर हैं , और उनके पिता का नाम अशोक कुमार है जो एचईएल में चीफ डिस्पेंसर हैं । आयुषी की सफलता पर माता-पिता की आंखों में खुशी के आंसू होने के साथ-साथ उनके चेहरे पर गर्व भी झलकता है । आयुषी अपने जीवन का आदर्श स्वर्गीय एपीजे अब्दुल कलाम को मानती हैं , आयुषी ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दिया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि की इन बेटियों ने किया कमाल, जानिए कैसे

आयुषी की इस सफलता के लिए यूके पॉजिटिव न्यूज़ उन्हें हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं देता है ।