उत्तराखंड – जी-20 की बैठक में आध्यात्मिकता, तीर्थाटन और स्थानीय सांस्कृतिक पर प्रस्तुतीकरण दिया गया

नरेंद्र नगर (जनपद टिहरी गढ़वाल) में जी-20 की बैठक में सम्मिलित होने आए विभिन्न देशों के डेलिगेट्स के समक्ष गाला डिनर के दौरान उत्तराखंड की आध्यात्मिकता, तीर्थाटन और स्थानीय सांस्कृतिक विरासत पर आधारित प्रस्तुतीकरण दिया गया।

सांस्कृतिक संध्या की शुरूआत राष्ट्रगान, डेलिगेट्स और मुख्य अतिथियों के स्वागत और दीप प्रज्वलन से की गई।

आध्यात्मिकता और तीर्थाटन के प्रस्तुतीकरण में जहां योग, गंगा आरती दर्शन, चारधाम तीर्थ यात्रा, महासू देवता वंदना तथा स्थानीय देवी-देवताओं की देव डोलियों का प्रस्तुतीकरण दिया गया, वहीं सांस्कृतिक विरासत में गढ़वाली, कुमाऊनी व जौनसारी संस्कृति का प्रस्तुतीकरण दिया गया।

यह भी पढ़ें 👉  पिथौरागढ़ की संध्या को UGC नेट परीक्षा में सफलता मिली, पूरे देश में 72वीं रैक हासिल की

विभिन्न देशों से जी-20 बैठक में पधारे डेलिगेट्स उत्तराखंड की देवभूमि की विशिष्ट परंपरा, आध्यात्मिकता और सांस्कृतिक उत्कृष्टता से अभिभूत और उत्साहित दिखे।

प्रस्तुतीकरण में भारतीय संस्कृति की सबसे बड़ी प्रेरणा वसुधैव कुटुंबकम (संपूर्ण पृथ्वी एक परिवार है) की झलक दिखी। इस अवसर पर सांस्कृतिक संध्या की प्रस्तुति के दौरान महामहिम राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह , मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी, केंद्रीय राज्य मंत्री श्रीमती मीनाक्षी लेखी और श्री अजय भट्ट, उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष श्रीमती रितु खंडूरी, पूर्व मुख्यमंत्री श्री विजय बहुगुणा, उत्तराखंड कैबिनेट मंत्री श्री प्रेमचंद अग्रवाल, श्री सुबोध उनियाल श्री गणेश जोशी व श्री सौरव बहुगुणा, सांसद गढ़वाल लोकसभा श्री तीरथ सिंह रावत जी, राज्यसभा सांसद श्री नरेश बंसल, विधायक श्री मुन्ना सिंह चौहान, श्री प्रीतम सिंह पवार, श्री किशोर उपाध्याय, श्री प्रदीप बत्रा , श्री विनोद कंडारी, श्री शक्ति लाल शाह व श्री ब्रजभूषण गैरोला, मुख्य सचिव डॉ एस एस संधु, मेयर ऋषिकेश श्रीमती अनीता मंगाई सहित अन्य गणमान्य उपस्थित थे।