यहां बजरंगबली सपनों में आकर बोले! मैं यहां हूं, मुझे यहां से बाहर निकालो,

कलयुग के इस युग में बड़ा ही चमत्कारी पर आश्चर्यजनक मामला सामने आया है ।दरअसल बात उत्तर प्रदेश के हाथरस की है, जहां मित्तई निवासी पंकज नामक एक बाबा को सपने में हनुमान जी दिखे थे। बाबा जी का कहना था कि उनसे हनुमान जी ने सपने में आकर स्वयं कहा था कि मैं धरती के अंदर हूं । यहां मुझे यहां से बाहर निकालो, अंदर मेरा दम घुट रहा है ।

सूत्रों के अनुसार बाबाजी ने बताया कि हनुमान जी ने सपने में खुद उन्हें आकर दर्शन दिए और बीएसए ऑफिस दिखाया और बताया कि मैं यहां जमीन के अंदर हुन ।

इस बात के बाद बाबा रमनपुर बीएसए ऑफिस पहुंचा और वहां पर खुदाई करवाई गई तो धरती से हनुमान जी की मूर्ति निकली जिसके बाद मूर्ति की स्थापना कर दी गई है। यह पूरा मामला हाथरस गेट के रमनपुर स्थित बीएससी ऑफिस की है । मित्ताई निवासी पंकज नामक एक बाबा को पिछले कई दिनों से हनुमान जी सपने में आ रहे थे और बार-बार उसे यही कहते थे कि मैं इस जगह पर हूं और मुझे यहां से बाहर निकालो।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : पहाड़ के पवनदीप और अरूणिता यूँ मना रहे हैं लंदन में वेकेशन, सामने आया यह वीडियो

आगे बाबा ने बताया कि जब हनुमान जी बहुत ज्यादा उनके सपनों में आने लगे तो उन्होंने हनुमान जी से विनती करी कि वह उन्हें बताएं कि वह किस जगह पर , कहां पर है ? जहां उनकी मूर्ति है, तो इस बात पर हनुमान जी ने उन्हें बीएसए का बोर्ड लगा हुआ दिखाया । फिर क्या था बाबा ने देर ना करते हुए कुछ लोगों के साथ शुक्रवार को बीएसए ऑफिस आए और यहां जमीन की खुदाई करवानी शुरू कर दी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड - लोक संस्कृति एवं लोकपरम्पराओं को बढावा देते हैं मेले और कौथिग: सीएम पुष्कर सिंह धामी

हालांकि विभागीय अधिकारियों ने उन्हें रोक दिया था ।लेकिन मौके पर तमाम हिंदूवादी इकट्ठा हो गए तो सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गयी और हिंदू वादियो ने डीएम से खुदाई की परमिशन लेकर जमीन की खुदाई कराई । खुदाई में हनुमान जी की मूर्ति धरती से निकलने पर सभी आश्चर्यचकित रह गए। लोगों ने उसे पेड़ के नीचे स्थापित कर दिया है, लेकिन हिंदू वादियो ने कहा है कि हम सभी हिंदू भाई यह चाहते हैं कि यह हनुमान जी की मूर्ति जिस जगह से निकली है उसी जगह पर हनुमान जी का भव्य मंदिर बनाया जाए। इस आश्चर्यजनक घटना को सुनने के बाद दूर-दूर से लोग मूर्ति के दर्शन करने आ रहे हैं ।