नैनीताल- फिल्म, वेब सीरीज और टीवी सीरियल के लिए हब बनेगा देवभूमि

खबर शेयर करें –
नैनीताल

*उत्तराखण्ड में फिचर फिल्म, वेबसीरीज, टीवी सीरीयल आदि के निर्माण के लिए देश में हब के रूप में विकसित किया जायेगा। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी*
*उत्तराखण्ड में फिल्म पर्यटन के क्षेत्र मे अनुकूल राज्य बनाना और राज्य मे फिल्म उद्योग के माध्यम से अधिकाधिक रोजगार के अवसर उत्पन्न कराना यही सरकार की प्राथमिकता में है।*

सोमवार को बलरामपुर हाउस नैनीताल में हिमश्री फिल्म और डिज्नी+हॉटस्टार के संयुक्त तत्वाधान में बन रही’वेबसीरीज काफल’की टीम को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुभकामनाएं दी और कहा कि यह उत्तराखंड के लिए गर्व का विषय है कि काफल के सम्पूर्ण पौष्टिक गुणों को समेटते हुए उत्तराखंड की वास्तविकता को काफल वेब सीरिज में दर्शाया जा रहा है। श्री धामी ने कहा कि सिनेमा समाज का दर्पण होता हैं जो उस क्षेत्र विशेष की समस्त गतिविधियों को फिल्म के जरिए आम जन के सम्मुख रखता है। उत्तराखंड अपनी नासर्गिक सुंदरता, हिमालय पर्वत, नदियों से आच्छादित है उसी तरह यह वेबसीरीज अपने नाम के समान पहाड़ की भौगोलिक, सामाजिक, आधुनिक और सांस्कृतिक समरसता को समेटे हुए है।

उन्होंने फिल्म निर्माताओं से उत्तराखंड की हसीन वादियों में आकर प्राकृतिक वातावरण का भरपूर लाभ उठाने के साथ ही फिल्म बनने की अपील की। कहा की हाल ही में सरकार को बेस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट का अवार्ड मिला है। सरकार द्वारा ऑनलाइन अनुमति की व्यवस्था की गई है। इस दिशा में सरकार पूर्ण प्रयासरत है कि किस प्रकार से पॉलिसी को और अधिक बेहतर बनाया जाए। इसके लिए सरकार अन्य राज्यों की फिल्म पॉलिसी का भी अध्ययन कर अधिक बेहतर बनाने की दिशा में कार्यरत और प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने कुमाऊंनी, गढवाली एवं जौनसारी फिल्मों, वैबसीरीज आदि के लिए 50 प्रतिशत सबसीडी स्वीकृत कर दी है। इससे स्थानीय कला एवं संस्कृति को बढावा मिलेगा साथ ही अनेक क्षेत्रों मे रोजगार का भी सृजन होगा।
उन्होंने कहा देश में उत्तराखण्ड शूटिंग के लिए एक प्रमुख स्थान बन चुका है। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षाे में और अधिक फिल्मांें का निर्माण उत्तराखण्ड में होने से होटल व्यवसायी के साथ पर्यटन व्यवसाय से जुडे लोगों,टैक्सी कारोबारी व गाइडों को फायदा होगा।
रोमेंटिक कॉमेडी पर आधारित काफल वेबसीरीज उत्तराखंड के विभिन्न किरदारों को लेकर बनाई जा रही है। काफल एक प्रयास है पुनः उत्तराखंड से उत्तराखंडवासियों को जोड़ने का। वेबसीरिज में 150 स्थानीय कलाकार जुड़े है साथ ही पहाड़ के संगीत, खूबसूरती को शो के जरिए विश्व को दिखाया जायेगा। काफल में दिव्येंदु शर्मा, मुक्ति मोहन, विनय पाठक, कुशा कपिला सहित शानदार कलाकार शामिल है । प्रेम मिस्त्री के कुशल निर्देशन में इस समूह में आयुषि, हेमंत पांडे और इश्तियाक खान जैसे कलाकार भी शामिल है।
कार्यक्रम में विधायक सरिता आर्या, राम सिंह कैडा, जिलाध्यक्ष प्रताप बिष्ट, आयुक्त दीपक रावत, डीआईजी डा0 योगेन्द्र सिंह रावत, जिलाधिकारी वंदना, एसएसपी पीएन मीणा के साथ ही काफल वेबसीराज के किरदार एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड-(GOOD NEWS) श्रीनगर- अल्मोड़ा बस सेवा इस दिन से शुरू

नैनीताल

*उत्तराखण्ड में फिचर फिल्म, वेबसीरीज, टीवी सीरीयल आदि के निर्माण के लिए देश में हब के रूप में विकसित किया जायेगा। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी*
*उत्तराखण्ड में फिल्म पर्यटन के क्षेत्र मे अनुकूल राज्य बनाना और राज्य मे फिल्म उद्योग के माध्यम से अधिकाधिक रोजगार के अवसर उत्पन्न कराना यही सरकार की प्राथमिकता में है।*

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: अब सरकार की सारी योजनाओं का मिलेगा आपको सीधा लाभ! जानिए कैसे ?

सोमवार को बलरामपुर हाउस नैनीताल में हिमश्री फिल्म और डिज्नी+हॉटस्टार के संयुक्त तत्वाधान में बन रही’वेबसीरीज काफल’की टीम को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुभकामनाएं दी और कहा कि यह उत्तराखंड के लिए गर्व का विषय है कि काफल के सम्पूर्ण पौष्टिक गुणों को समेटते हुए उत्तराखंड की वास्तविकता को काफल वेब सीरिज में दर्शाया जा रहा है। श्री धामी ने कहा कि सिनेमा समाज का दर्पण होता हैं जो उस क्षेत्र विशेष की समस्त गतिविधियों को फिल्म के जरिए आम जन के सम्मुख रखता है। उत्तराखंड अपनी नासर्गिक सुंदरता, हिमालय पर्वत, नदियों से आच्छादित है उसी तरह यह वेबसीरीज अपने नाम के समान पहाड़ की भौगोलिक, सामाजिक, आधुनिक और सांस्कृतिक समरसता को समेटे हुए है।
उन्होंने फिल्म निर्माताओं से उत्तराखंड की हसीन वादियों में आकर प्राकृतिक वातावरण का भरपूर लाभ उठाने के साथ ही फिल्म बनने की अपील की। कहा की हाल ही में सरकार को बेस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट का अवार्ड मिला है। सरकार द्वारा ऑनलाइन अनुमति की व्यवस्था की गई है। इस दिशा में सरकार पूर्ण प्रयासरत है कि किस प्रकार से पॉलिसी को और अधिक बेहतर बनाया जाए। इसके लिए सरकार अन्य राज्यों की फिल्म पॉलिसी का भी अध्ययन कर अधिक बेहतर बनाने की दिशा में कार्यरत और प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने कुमाऊंनी, गढवाली एवं जौनसारी फिल्मों, वैबसीरीज आदि के लिए 50 प्रतिशत सबसीडी स्वीकृत कर दी है। इससे स्थानीय कला एवं संस्कृति को बढावा मिलेगा साथ ही अनेक क्षेत्रों मे रोजगार का भी सृजन होगा।
उन्होंने कहा देश में उत्तराखण्ड शूटिंग के लिए एक प्रमुख स्थान बन चुका है। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षाे में और अधिक फिल्मांें का निर्माण उत्तराखण्ड में होने से होटल व्यवसायी के साथ पर्यटन व्यवसाय से जुडे लोगों,टैक्सी कारोबारी व गाइडों को फायदा होगा।
रोमेंटिक कॉमेडी पर आधारित काफल वेबसीरीज उत्तराखंड के विभिन्न किरदारों को लेकर बनाई जा रही है। काफल एक प्रयास है पुनः उत्तराखंड से उत्तराखंडवासियों को जोड़ने का। वेबसीरिज में 150 स्थानीय कलाकार जुड़े है साथ ही पहाड़ के संगीत, खूबसूरती को शो के जरिए विश्व को दिखाया जायेगा। काफल में दिव्येंदु शर्मा, मुक्ति मोहन, विनय पाठक, कुशा कपिला सहित शानदार कलाकार शामिल है । प्रेम मिस्त्री के कुशल निर्देशन में इस समूह में आयुषि, हेमंत पांडे और इश्तियाक खान जैसे कलाकार भी शामिल है।
कार्यक्रम में विधायक सरिता आर्या, राम सिंह कैडा, जिलाध्यक्ष प्रताप बिष्ट, आयुक्त दीपक रावत, डीआईजी डा0 योगेन्द्र सिंह रावत, जिलाधिकारी वंदना, एसएसपी पीएन मीणा के साथ ही काफल वेबसीराज के किरदार एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें 👉  प्यारो कुमांऊ प्यारो गढ़वाल छन, जौनसार भाबरक आपण शान छन....



Your browser does not support the video tag.


Your browser does not support the video tag.