उत्तराखण्ड

उत्तराखंड:हल्द्वानी की खुशबू जोशी को कारगिल में मिला सम्मान, दीजिये बधाई

Uttarakhand News : बीते 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस था । ये दिन महिलाओं के त्याग, समर्पण, भाव, प्रतिभा, संघर्ष और हिम्मत के लिए समर्पित होता है। महिलाओं के ये गुण देखने के लिए हमें कहीं जाने की जरूरत नहीं है। इन सभी के उदाहरण हमें अपने आसपास ही मिल जाएंगे। हल्द्वानी निवासी खुशबू जोशी भी इन्हीं गुणों को समेटकर महिलाओं की सेवा कर रही हैं। हल्द्वानी की इस बेटी को महिलाओं के स्वास्थ्य की सुध लेने की दिशा में अब कारगिल में सम्मान मिला है। लेकिन कहते हैं ना कि एक अकेला थक जाएगा मिलकर बोझ उठाना, साथी हाथ बढ़ाना। इसलिए महिलाओं की सेवा के लिए आपको और हमें आगे आने की जरूरत हैं।

हल्द्वानी छड़ायल नायक निवासी खुशबू जोशी की सातवीं कक्षा तक की पढ़ाई उदयपुर से पूरी हुई है। इसके बाद उन्होंने हल्द्वानी के आर्यमान विक्रम बिरला स्कूल से 12वीं तक की पढ़ाई की। बाद में खुशबू ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से पॉलिटिकल साइंस में बीए ऑनर्स और जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय से एमए पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन की पढ़ाई की है। एक बेटी होकर तमाम बेटियों को बीमारियों के अंधकार से बचाने का काम कर रही हैं। जिस समाज में महिलाओं के स्वास्थ्य को लेकर हर कोई चुप्पी साधे बैठा रहता है। माहवारी (पीरियड्स) के बारे में कोई बात नहीं करना चाहता। वहीं, खुशबू जोशी इस दिशा में साल 2019 से अपने प्रोजेक्ट शोक्पा (SHOQPA) के माध्यम से काम कर रही है।

खुशबू किशोरियों को माहवारी समेत महिलाओं के निजी स्वास्थ्य के बारे में जागरूक कर रही हैं। वह अपनी पूरी टीम के साथ सैनिटरी पैड्स समेत कई मेंस्टूरल प्रोडक्ट्स को भी बांट रही हैं। इसमें कोई दोराय नहीं कि हमारा समाज एक ऐसा समाज है जो बेटियों और महिलाओं के प्रति सदा से लापरवाह रहा है। यहां बेटियों को पराया धन समझकर शादी की जाती है। फिर ये उम्मीद की जाती है कि महिलाएं उनके वंश हो आगे बढ़ाएंगी। लेकिन खुशबू जोशी इस परंपरा को तोड़कर आगे बढ़ रही हैं। खुशबू जोशी के मुताबिक किशोरियों को आज भी रिप्रोडक्टिव सिस्टम, अपने निजी स्वास्थ्य के बारे में जानकारी नहीं है। शोक्पा इन्हीं बच्चियों को जागरूक करने के साथ साथ उन्हें बीमारियों से बचा रहा है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि के इस क्रिकेटर ने पछाड़ दिया कपिल देव को

खुशबू अपनी टीम के साथ किशोरियों को ऐसे सैनिटरी पैड्स बांट रही हैं जो दो साल तक इस्तेमाल किए जा सकते हैं। अब खुशबू जोशी आगे भी इसी तरह से काम करना चाहती हैं। वह कहती हैं कि उन्हें हल्द्वानी व हमारे पहाड़ों के लिए भी काम करना है। इसी नेक काम की वजह से खुशबू को कारगिल में सम्मान मिला है। उन्हें सोनम वांग्चुक (थ्री इडियट फेम फुनसुख वांगड़ू) द्वारा सम्मानित किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : पहाड़ के इस लाल को मिला इंडियन इकोनॉमिक्स सर्विस में ऑल इंडिया में प्रथम स्थान

खुशबू को यूके पॉजिटिव न्यूज़ की ओर से हार्दिक बधाई ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top