उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: देवभूमि का यह लाल इसरो में साइंटिस्ट बन अब UPSC परीक्षा में हुआ पास

प्रदेश के एक और होनहार लाल ने अपने परिवार का नाम रोशन किया है। चावमंडी निवासी कार्तिक कंसल का चयन दूसरी बार यूपीएससी में हो गया है। बता दें कि कार्तिक ने 271वां स्थान प्राप्त किया है। मौजूदा वक्त में वह इसरो में वैज्ञानिक के पद पर तैनात हैं। उन्होंने आईआईटी रुड़की से बीटेक की डिग्री प्राप्त की है।

कार्तिक के पिता एल पी गुप्ता राजस्व विभाग में राजस्व निरीक्षक के पद पर कार्यरत हैं। वर्तमान में वह राजकीय पुलिस एवं भूलेख प्रशिक्षण संस्थान अल्मोड़ा में ट्रेनिंग पर हैं। बता देंगे कि कार्तिक शुरू से ही पढ़ाई में काफी मेधावी छात्र रहे। कार्तिक ने साल 2018 में ही आईडी रुड़की से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की थी।

बाद में कार्तिक ने साल 2020 में यूपीएससी की तैयारी की और एग्जाम भी दिया। लेकिन क्योंकि उन्हें 813 वी रैंक मिली और पोस्टल विभाग मिला था। इसलिए उन्होंने उस समय ज्वाइन नहीं किया था। उन्होंने अपनी मेहनत से दोबारा तैयारी कर 271 रैंक हासिल की है। गौरतलब है कि वह श्रीहरिकोटा स्थित इसरो में वैज्ञानिक पद पर तैनात है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: इसे कहते हैं शानदार वापसी,देवभूमि के इस लाल ने रणजी के पहले ही मैच में झटक लिए चार विकेट

2018 में इसरो के वैज्ञानिक बनने के बाद अब यूपीएससी की परीक्षा में उत्तीर्ण होना वाकई यह बताता है कि कार्तिक की काबिलियत किस स्तर की है। इस उपलब्धि से उन्होंने ना सिर्फ अपने परिवार बल्कि पूरे रुड़की क्षेत्र को गौरवान्वित किया है। बता दें कि कार्तिक की शुरुआती शिक्षा सेंट गेब्रियल से हुई है। उनकी माता ममता गुप्ता एक ग्रहणी है। जबकि उनके भाई वरुण कंसल ने भी बीटेक किया है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top