उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: अब बाबा केदार के दर्शन होंगे और भी आसान, श्रद्धालु बस 60 मिनटों में ही पहुँचेंगे केदारनगरी

UTtarakhad News : करोड़ों हिन्दुओं की आस्था के प्रतीक केदारधाम में दुनिया का सबसे लम्बा रोपवे बनने के लिए काम जल्दी ही शुरू होने वाला है। कुछ माह पूर्व भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) की टीम केदारनाथ में रोपवे संभावनाओं का जायजा लेने आई थी।

इस दौरान टीम ने केदारनाथ, सोनप्रयाग और गौरीकुंड क्षेत्र का दौरा किया था। NHAI की रोपवे विंग लॉजिस्टिक मैनेजमेंट लिमिटेड के सीईओ प्रकाश गौड़ के नेतृत्व में इस टीम ने पूरे इलाके का सर्वे किया था। सीईओ प्रकाश गौड़ ने प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी देते हुए बताया था कि उत्तराखंड में कुल 29 किमी की संयुक्त लंबाई के साथ तीन रोपवे लिंक प्रस्तावित हैं। जिनमें से एक ये गौरीकुंड से केदारनाथ रोपवे है।

अब इसी कड़ी में आगे उत्तराखंड में समुद्र तल से 11,500 फीट की ऊंचाई पर दुनिया का सबसे लंबा रोपवे बनाने की योजना धरातल पर उतर रही है। 11.5 किलोमीटर लंबे रोपवे की मदद से तीर्थयात्रियों को 24 किलोमीटर का पैदल रास्ता तय नहीं करना पड़ेगा। केदारनाथ मंदिर तक पहुंचने में लगने वाले समय में काफी कमी आएगी और श्रद्धालु हिमालय के मनमोहक दृश्यों को देखते हुए एक घंटे से भी कम समय में केदारनगरी पंहुचेंगे। वर्तमान में, तीर्थयात्रियों को गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर तक पंहुचने में पूरा दिन लगता है, जबकि रोपवे उन्हें सोनप्रयाग से केदारनाथ तक 60 मिनट में पंहुचा देगा।

यह भी पढ़ें 👉  Bank Holiday News: अक्‍टूबर में 21 दिन बंद रहने वाले हैं बैंक, देखें लिस्‍ट

उत्तराखंड पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने अब स्पष्ट किया है कि, “केदारनाथ रोपवे के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और जल्द ही काम शुरू करने के लिए निविदा जारी की जाएगी।” Kedarnath Ropeway परियोजना के सलाहकार एस के जैन के अनुसार, पहले की योजना गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर तक रोपवे बनाने की थी, लेकिन बाद में शुरुआती बिंदु को सोनप्रयाग में स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: नैनीताल जिले में जगह- जगह बनाए जाएंगे कुमाऊंनी स्टाइल के SELFIE POINT

रिपोर्ट्स के मुताबिक बदरीनाथ धाम के लिए भी जोशीमठ से रोपवे सेवा शुरू किये जाने पर विचार चल रहा है। इसी तरह गंगोत्री के लिए मनेरी और यमुनोत्री के लिए बड़कोट-नंदगांव से पांच से दस किमी का रोपवे प्रस्तावित है। आपको बता दें कि साल 2005 में भी केदारनाथ के लिए रोपवे सेवा शुरू करने की कवायद हुई थी। तब उत्तराखंड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कंपनी ने रामबाड़ा से केदारनाथ तक साढ़े तीन किमी लंबे रोपवे की जरूरत बताते हुए 70 करोड़ का प्रस्ताव बनाया था, लेकिन किसी भी कंपनी ने पीपीपी मोड में होने वाले निर्माण में रुचि नहीं दिखाई। अब सिर्फ केदारनाथ ही नहीं अन्य धामों को भी रोपवे सेवा से जोड़ने की तैयारी शुरू हो गई है। आरवीएनएल के मैनेजर सर्वेक्षण सिद्धार्थ सिंह चौहान ने कहा कि जल्द ही जरूरी औपचारिकताएं पूरी हो जाएंगी। सर्वेक्षण और सीमांकन का काम हो चुका है। चारधामों के रोपवे सेवा से जुड़ने से श्रद्धालुओं का सफर आसान है ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संपादक –
नाम: चन्द्रा पाण्डे
पता: पटेल नगर, लालकुआं (नैनीताल)
दूरभाष: +91 73027 05280
ईमेल: [email protected]

© 2021, UK Positive News

To Top