उत्तराखंड : पवनदीप राजन के बाद ऋषभ पंत ने किया पहाड़ी टोपी को वायरल मार्केट में बढ़ी टोपी की Value

Uttarakhand News : पहाड़ का नाम सुनते ही हम देवभूमिवासियों को अपने-अपने गांव याद आने लगते हैं। गांव याद आते हैं तो वहां की सभ्यताएं और रहन सहन याद आता है। वही रहन सहन, जो हम पहाड़ी दुनिया के किसी भी कोने में जाने पर भी नहीं भूलते। ऋषभ पंत भी नहीं भूले हैं। भारतीय क्रिकेट के उभरते सितारे को पहाड़ की एक एक बात याद है। इसकी बानगी ऋषभ की ताजा इंस्टाग्राम स्टोरी से साफ देखी जा सकती है।

दरअसल पहाड़ी टोपी देवभूमि वासियों के लिए बहत मायने रखती है। सिर्फ इसकी खूबसूरती को ही देखें तो इसे पहने बिना रहा ना जाए। हालांकि आज के दौर में ये टोपियां कम देखने को मिलती हैं। मगर युवाओं द्वारा इसे चलन में लेकर आने के लिए पूरी कोशिशें की जा रही हैं। पहले उत्तराखंड के लाल पवनदीप राजन और अब पहाड़ के बेटे ऋषभ पंत ने टोपी की वैल्यू बढ़ा दी है।

बता दें कि ऋषभ पंत ने अपने इंस्टाग्राम पर एक तस्वीर शेयर की है। जिसमें वह उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में पहने जाने वाली टोपी को सिर पर पहने हुए हैं। उन्होंने फोटो के साथ लिखा है कि ” इस टोपी को देखने के बाद अपने मूल गांव की याद आ गई”। ऋषभ ने आगे लिखा कि इस टोपी को कुछ लोग तो आसानी से पहचान लेंगे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि के युवाओं का कमाल, 12 ग्राम का ये उपकरण आसानी से बताएगा दिल का हाल

गौरतलब है कि ऋषभ पंत इस वक्त दुबई में मौजूद हैं। वह आइपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान की जिम्मेदारी निभा रहे हैं। बता दें कि दिल्ली की टीम प्लेऑफ में पहुंच चुकी है। इस टूर्नामेंट के बाद ऋषभ पंत भारतीय जर्सी में वर्ल्ड टी20 में खेलते दिखेंगे। पूरे उत्तराखंड को अपने बेटे और इस चहेते खिलाड़ी से बहुत सी उम्मीदें हैं। रुड़की में जन्मे ऋषभ समय-समय पर पहाड़ के साथ अपना प्रेम जाहिर करते रहते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड :पहाड़ के इस लाल ने न सिर्फ देश में बल्कि विदेशों में भी उत्तराखंड की बनाई एक अलग पहचान, दीजिये बधाई

बता दें कि कई जगह तो बाजार में टोपियों की दुकानों पर लोग ये कहर टोपी मांग रहे हैं कि “हमें भी पवनदीप जैसी टोपी चाहिए”। गौरतलब है कि पवनदीप राजन ने अपनी गायकी से तो हर किसी का दिल जीता ही। मगर उनका नेक दिल और पहाड़ को आगे लेकर जाने की सोच ने हर किसी को उनका दीवाना बना दिया है। कुल मिलाकर पहाड़ी टोपी की वैल्यू बढ़ाने में पवनदीप का बड़ा योगदान रहा है।