उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: देवभूमि के इस गांव की महिलाओं ने बनाया बुरांश के जूस को स्वरोजगार का जरिया

Uttarakhand News: एक कहावत आजकल दिनोंदिन प्रचलित होती जा रही है की आज के युग में ढूंढने से भगवान तो मिल जाएंगे, किंतु नौकरी नहीं मिल पाएगी। ऐसा कहने के पीछे लोगों की जो वजह है वह यह भी है कि कोरोना के बाद नौकरियां खत्म ही हो गई हो मानो ।

किंतु भले ही नौकरियां ना मिल रही हो , पैसा कमाना मुश्किल हो , लेकिन फिर भी पैसा तो कमाना है , कुछ कार्य तो करना ही है जिससे कि जीविका उपार्जन का साधन बना रहे।

आज के दौर में कई लोग ऐसे भी हैं जो नौकरियों के चक्कर में ना पढ़कर अपने स्वयं का स्वरोजगार खोल रहे हैं और अपने साथ-साथ अन्य बेरोजगार लोगों को भी सहारा देकर रोजगार दे रहे हैं । इसी कड़ी में आज हम आपको उत्तराखंड के इक गांव की महिलाओं के बारे में बताएंगे जिन्होंने स्वरोजगार की ओर कदम बढ़ा कर अपने जैसे कई बेरोजगार लोगों को रोजगार दिया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: टेस्ट क्रिकेट में पहाड़ के ऋषभ पंत का जलवा, सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ा

स्वरोजगार की इसी कड़ी में देहरादून जिले के विकासनगर क्षेत्र की आजीविका मिशन से पंजीकृत कालसी ब्लाक के ग्राम उद्पाल्टा के जय मां दुर्गा स्वयं सहायता समूह की महिलाएं जंगलों में जाकर बुरांश के फूल एकत्रित करने के बाद इनका जूस तैयार कर रही हैं ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: ग्राफिक एरा ने बदली इस युवा की जिंदगी, अमेजॉन में मिला का 44.14 का पैकेज

बता दे कि बुरांश के इस जूस की मांग देहरादून के साथ-साथ बाहरी राज्यों के दिल्ली चंडीगढ़ पंजाब आदि शहरों मे भी बढ़ रही है। इससे यहां की महिलाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त हो रहे हैं। दुर्गा स्वयं सहायता समूह की सदस्य निधि के अनुसार गर्मी बढ़ने के साथ ही बुरांश के जूस की मांग भी बढ़ रही है। बताते चलें कि जहां समूह की कुछ महिलाएं जंगल से बुरांश के फूल एकत्रित करने का कार्य करती हैं वही कुछ महिलाएं फूलों के छटाई करके जूस बनाने का कार्य करती हैं। इसी प्रकार समूह की सारी महिलाएं मिलजुल कर कर जूस बनाने का कार्य को पूरा करती हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: "कद नहीं किरदार बोलते हैं"और इस बात को साबित किया है देहरादून की इस आईएएस अफसर ने!

इन महिलाओं ने बुरांश के जूस से स्वरोजगार को अपना कर स्वयं की जीविका उपार्जन का माध्यम तो बनाया ही है साथ ही अपने जैसे अन्य बेरोजगार लोगों को भी स्वरोजगार के साथ जोड़ा है। बुरांश का जूस स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक होता है इसलिए इन महिलाओं को बुरांश के जूस की अच्छी खासी कीमत मिल जाती है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संपादक –
नाम: चन्द्रा पाण्डे
पता: पटेल नगर, लालकुआं (नैनीताल)
दूरभाष: +91 73027 05280
ईमेल: [email protected]

© 2021, UK Positive News

To Top