उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: देवभूमि से जुड़ा है जुबिन नौटियाल का दिल, इगास पर्व पे गाया यह गीत!

https://youtu.be/ByVAXygApYE

उत्तराखंड/ कुमाऊं में दीवाली से 11 दिन बाद इगास को बूढ़ी दीवाली के रूप में मनाया जाता है। इस पर्व के दिन सुबह मीठे पकवान बनाए जाते हैं। रात में स्थानीय देवी-देवताओं की पूजा अर्चना के बाद भैला एक प्रकार की मशाल जलाकर उसे घुमाया जाता है और ढोल-नगाड़ों के साथ आग के चारों ओर लोक नृत्य किया जाता है।

किंतु समय के साथ-साथ पहाड़ों से हो रहे पलायन से यह पर्व कहीं ना कहीं खत्म सा होता जा रहा है । उत्तराखंड में यह संस्कृति और परंपरा बनी रहे इसलिए इगास पर्व को धूमधाम से मनाया जाता है।

इगास पर्व की सबसे खास बात यह है कि इस पर्व को मनाते समय आतिशबाजी नहीं करी जाती , बल्कि पारंपरिक भैलों के साथ खेल कर मनाते हैं ।पहाड़ों से चीड़ के छील ,पारंपरिक वाद्य यंत्र बजा कर इस पर्व को मनाया जाता है ।कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को लोक पर विकास मनाया जाता है पहले पहाड़ में लोग इसे भव्य रुप में मनाते थे लेकिन आप पलायन के चलते यह चीजें लगभग खत्म होने के कगार पर है इसलिए यह संस्कृति आने वाले बच्चों तक भी जाए और बच्चे इस पर्व को जाने इसलिए पहाड़ों में अभी भी इस पर्व को धूमधाम से मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि के आकाश मधवाल सूर्य कुमार की जगह आईपीएल में खेलते दिखेंगे, दीजिये बधाई

इगास पर्व पर सब के दिलों पर राज करने वाले जुबिन नौटियाल ने अपनी सुरीली आवाज में इस पर्व के गीत को गाया है और सब को प्यार भरा संदेश दिया है। जुबीन का यह वीडियो सोशल मीडिया पर खाता वायरल हो रहा है ।जुबिन की यादों में उत्तराखंड आज भी बसता है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: (महिला) बॉक्सिंग प्रशिक्षक भाष्कर भट्ट को वर्ष 2021 का द्रोणाचार्य अवार्ड मिला,बॉक्सिंग में उत्तराखंड के पहले अवार्डी बने भट्ट, दीजिये बधाई

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संपादक –
नाम: चन्द्रा पाण्डे
पता: पटेल नगर, लालकुआं (नैनीताल)
दूरभाष: +91 73027 05280
ईमेल: [email protected]

© 2021, UK Positive News

To Top