उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: सरकारी शिक्षिका होने का फर्ज निभा रही हैं देवभूमि की पिंकी पवार

Uttarakhand News: किसी बच्चे के भविष्य में स्कूल और उसके शिक्षक – शिक्षिका का महत्वपूर्ण योगदान होता है। बच्चे की प्रतिभा को पहचान कर , सही दिशा दिखा कर, उसे उसके सामाजिक दायित्वों के लिए तैयार करना एक शिक्षक या शिक्षिका के हाथों में भी होता है।

बाल भविष्य को सॅवारती हुई देवभूमि की एक ऐसी ही शिक्षिका से आज हम आपको रूबरू करवाने जा रहें हैं ।

जी हां आज हम बात कर रहे हैं शिक्षिका पिंकी पवार की। पिंकी पवार मूल रूप से देहरादून के सुंदर वाला रायपुर की रहने वाली हैं। वर्तमान में पिंकी अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कॉलेज सोडा सिरौली विकासखंड रायपुर देहरादून मैं शिक्षिका के पद पर कार्यरत हैं ।

पिंकी जहां एक ओर बच्चों को पढ़ा – लिखा कर उनका भविष्य सॅवारती है तो वहीं दूसरी ओर वो समाज सेवा में भी बढ़ – चढ़ कर हिस्सा लेती हैं । पिंकी ने क्षेत्र के गरीब मजदूरों के बच्चो के लिए भी पढ़ाई लिखाई की मुहिम को छेड़ा है और कई लेबरों के बच्चो को स्कूल में दाखिला दिलाया है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: किच्छा की मीनू गुप्ता के सिर सजा मिसेज एशिया अमेरिका का ताज, दीजिये बधाई

पिंकी पवार ने अब तक कई गरीब बच्चो को खुद की आय पर स्कूल में दाखिला दिलवाया है और गरीब बच्चो को उनकी जरूरतों के मुताबिक स्टेशनरी का सामान भी खुद की आय से ही दिया है । इसके पीछे पिंकी का सीधा सीधा उद्देश्य समाज के गरीब बच्चो का भविष्य बना कर उन्हें जीवन में आगे बढ़ाना है । पिंकी के इस मुहिम से प्रभावित होकर उनका साथ सुनीता रावत भी दे रही है । सुनीता रावत स्वयं भी एक शिक्षिका हैं।

पिंकी पवार के इस सराहनीय कार्य की हर कोई तारीफ कर रहा है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि की यह शिक्षिका बनी दुनिया के लिए मिसाल, जानिए कौन है ये

पिंकी पवार जहां एक अच्छी शिक्षिका है वहीं दूसरी ओर जानवरों के प्रति भी उनके दिल में खास जगह है। उन्होंने स्वयं कई स्ट्रीट डॉग्स के लिए ड्रम होम की व्यवस्था भी की हुई है । इन ड्रम होम्स को पिंकी पवार ने स्वयं तैयार किया हैं । ये ड्रम होम बनाने के पीछे पिंकी का उद्देश्य ये था कि सड़क पे बिन सहारे के घूमते भूखे डॉग्स को भोजन और आशियाना मिल सके ।

इन ड्रम होम्स में सोने के बिछोने से लेकर डॉग्स के खाने तक कि पूरी व्यवस्था की गई है ।

पिंकी कला में भी निपुण हैं । उन्होंने अपने विद्यालय को खुद सजाया है । विद्यालय की दीवार पर बने हुए डिजाइन और पेंटिंग्स को देखकर लगता है मानो किसी प्राइवेट स्कूल में आ गए हो, और उससे भी ज्यादा आकर्षित करने वाली बात यह है की पिंकी के द्वारा बनाए गए इन दीवारों की पेंटिंग पर नशे के खिलाफ भी एक मुहिम दिखाई देती है जो कि स्वयं शिक्षिका ने हीं छेड़ी है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि की ये बेटी बनी सेना में मेजर, गौरव के पल देवभूमि के लिए

शिक्षिका आने वाली पीढ़ी को नशे से दूर रहने का संदेश भी अपनी पेंटिंग के माध्यम से दे रही हैं ।

बतौर शिक्षिका पिंकी पवार की पहली जॉइनिंग राजकीय प्राथमिक विद्यालय भौड़ा तल्ला विकासखंड भिलंगना टिहरी गढ़वाल में हुई ।
तत्पश्चात पिंकी की दूसरी जॉइनिंग रा.उ .मा . वि ल्वेदन कसमोली, नरेंद्र , टिहरी गढ़वाल में हुई और अब वर्तमान में पिंकी अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कॉलेज सोडा सरोली विकासखंड रायपुर देहरादून में कार्यरत हैं ।

वर्तमान में पिंकी का निवास स्थान गांव सुंदर वाला पोस्ट ऑफिस रायपुर देहरादून है ।

1 Comment

1 Comment

  1. Pinki

    April 14, 2022 at 1:08 pm

    Thnk u

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top