उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: कभी पंतनगर यूनिवर्सिटी के छात्र थे, अब होंगे देश के नए विदेश सचिव

भारत के नए विदेश सचिव की नियुक्ति हो गई है। अब विनय मोहन क्वात्रा भारत के नए विदेश सचिव होंगे। वह मई से यह कार्यभार संभालेंगे। बता दें कि वर्तमान वक्त में हर्षवर्धन श्रृंगला ये जिम्मेदारी निभा रहे हैं। विनय मोहन क्वात्रा इस वक्त नेपाल में भारत के राजदूत हैं खास बात तो यह है कि विनय मोहन क्वात्रा पंतनगर यूनिवर्सिटी के छात्र रहें हैं ।

पढ़ाई के दिनों से ही कुछ और करने की इच्छा मन में लिए विनय मोहन क्वात्रा आगे बढ़ रहे थे। साल 1980 में उन्हें ग्रेजुएशन करनी थी। तब उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय और पंतनगर विश्वविद्यालय दोनों में प्रवेश की कोशिश की। उन्होंने दोनों जगह आवेदन किया तो उनका चयन दोनों जगह हो गया।

रोहिणी कॉलोनी दिल्ली के रहने वाले विनय मोहन क्वत्रा ने दिल्ली नहीं बल्कि जीबी पंत विश्वविद्यालय को अपने ग्रेजुएशन के लिए चुना। 1980 में पंत विश्वविद्यालय में कृषि एवं पशु पोषण विज्ञान विषय में स्नातक में प्रवेश लेने वाले विनय मोहन ने 1985 में यहीं से विज्ञान विषय में परास्नातक की डिग्री भी ली। बता दें कि विनय मोहन ने इंटरमीडिएट केंद्रीय विद्यालय दिल्ली से किया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- पहाड़ के राघव जुयाल की आ रही है यह फिल्म, एक्शन में दिखेंगे राघव जुयाल

पंत विश्वविद्यालय में स्नातक व परास्नातक करने वाले विनय मोहन पढ़ाई में तो अच्छे थे ही थे लेकिन इसके साथ वह एकमात्र ऐसे छात्र थे जो सबसे अलग स्टाइल की दाढ़ी रखते थे। उनके दोस्त बताते हैं कि वह पंतनगर इसलिए से क्योंकि वह ग्रामीण इलाकों से जुड़ कर रहना चाहते थे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: सरकारी शिक्षिका होने का फर्ज निभा रही हैं देवभूमि की पिंकी पवार

पंतनगर यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान विनय मोहन ने स्नातक की पढ़ाई गांधी और सुभाष हॉस्टल में और परास्नातक की पढ़ाई चितरंजन हॉस्टल में रहते हुए पूरी की। पंत विश्वविद्यालय के उद्यान विज्ञान विभाग के हेड डॉ सीसी डिमरी ने जानकारी दी और बताया की विनायक काफी मिलनसार होने के साथ-साथ मेधावी छात्र भी थे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- ग्रैंड फिनाले कल, सोशल मीडिया से आई आवाज जीतेगा अपना पहाड़ी भुला पवनदीप

जानकारी के अनुसार जब पंतनगर विश्वविद्यालय से विनय मोहन ने अपनी परास्नातक की डिग्री पूरी की तो उनका चयन दक्षिण भारत में पीएनबी में पीओ पद पर हो गया था वहां पर उन्होंने कुछ साल तक नौकरी की लेकिन इसके बाद और मेहनत करके उनका चयन भारतीय विदेश सेवा में हो गया। इस वक्त नेपाल में भारत के राजदूत की भूमिका निभा रहे हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top