उत्तराखण्ड

उत्तराखंड : अब गढ़वाली और कुमाँऊनी भाषा को भी मिलेगी स्कूलों में प्राथमिकता, दोनों भाषाओं को पढ़ेंगे विद्यार्थी

Uttarakhand News : हमें गर्व है कि हम उत्तराखंडी हैं , हमारी बोली भाषा आज के वर्तमान समय मे कहीं विलुप्त होते जा रही है । कहीं हमारी आने वाली पीढ़ी हमारी बोली भाषा को भूल न जाये इस लिए शिक्षा के क्षेत्र में एक सराहनीय कदम उठाया गया है ।

अब विद्यालयों में कुमाउनी और गढ़वाली भाषा को अन्य अनिवार्य विषयों की तरह ही पढ़ाया जाएगा । जिसका सीधा – सीधा मकसद हमारी भाषा को आगे बढ़ना और आने वाली पीढ़ी को अपनी मातृ भाषा को सीखना है।

इसके लिए विद्यालयो में ऐसे शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी जो कि गढ़वाली और कुमाउनी भाषा बोलने और पढ़ने में कुशल होंगे।

यह भी पढ़ें 👉  संवरेगी अब गार्गी की गगास नदी भौगोलिक सूचना विज्ञान से

मातृभाषा को बढ़ाने के लिए कक्षा 1 से लेकर 5 तक स्कूलों में कुमाँऊनी , गढ़वाली सहित गुरमुखी, जौनसारी भाषा भी पढ़ाई जाएगी ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top