उत्तराखण्ड

उत्तराखंड : देवभूमि में गोल्ज्यू संदेश यात्रा शुरू, कुमाऊं से गढ़वाल तक 22 सौ किलोमीटर चलेगी यात्रा

Uttarakhand News: अपनी धरोहर संस्था द्वारा उत्तराखंड राज्य की संस्कृति की प्रतीक गोलज्यू यात्रा का शुभारंभ 25 अप्रैल सोमवार को बोना गाँव धरती धार मुनस्यारी से हुआ। ग्राम प्रधान उषा देवी,वरिष्ठ ग्रामीण नाथ सिंह रावत, संस्था अध्यक्ष सेवानिवृत्त आईपीएस गणेश सिंह मर्तोलिया, सचिव विजय भट्ट द्वारा पूजा अर्चना कर यात्रा का विधिवत शुभारंभ किया।यात्रा पिथौरागढ़, अल्मोड़ा,बागेश्वर, पौड़ी,देहरादून, चंपावत, खटीमा,रुद्रपुर होते हुए 4 मई को हल्द्वानी पहुंचेगी। यात्रा 5 मई को नैनीताल, भवाली होते हुए घोड़ाखाल पहुंचेगी।

6 मई को घोड़ाखाल गोलज्यू मंदिर में हवन के साथ इसका समापन होगा और भक्तगण भंडारे में प्रसाद ग्रहण करेंगे। मर्तोलिया ने पूजा अर्चना के बाद कहा कि गोलज्यू हमारे न्याय के देवता हैं और पूरे उत्तराखंड में लोग उन्हें पूजते हैं। गोलज्यू यात्रा के द्वारा पूरे उत्तराखंड में जाकर जन जागृति की जायेगी। उन्होंने बताया कि राज्य के सर्वांगीण विकास में हम सभी का योगदान संभव हो ,उत्तराखंड की संस्कृति का संरक्षण व संवर्द्धन हो सके, इसके साथ -साथ यात्रा का उद्देश्य रोजगार, शिक्षा ,चिकित्सा तथा कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देते हुए सहभागी बनाना ।

राज्य व राज्य के बाहर देव संस्कृति (व्यवस्था )में आस्था रखने वाले धर्म ,संस्कृति व प्रकृति प्रेमी किसी भी जाति या प्रांत के निवासी जो कि देवभूमि उत्तराखंड के हित में कार्य कर सकें साथ ही कृषि आधारित उत्पादकों को बाजार उपलब्ध कराना तथा देव स्थलों को धार्मिक पर्यटन के रूप में विकसित करना भी यात्रा का उद्देश्य है। सचिव विजय भट्ट ने कहा कि शिल्पकार ,मूर्तिकार ,लोहार ,जगरिये, डंगरिये,लोकगायक लोकनर्तक, वाद्य यंत्र बनाने वाले ,बजाने वाले और इसी प्रकार उत्तराखंड की पहचान और विरासत को जीवंत रखने वाले कलाकारों की पहचान करना और उनकी कला को रोजगारोन्मुख बनाना भी यात्रा का उद्देश्य है।

यह भी पढ़ें 👉  साईकिल से 32 वर्षो में 5 लाख 80 हजार किमी की यात्रा करने वाले राजेन्द्र पहुचे नैनीताल, बड़ा दिलचस्प है इनका सफर

यात्रा के प्रत्येक पड़ाव में गोल्ज्यू पंचायत (गोष्टी )का आयोजन कर स्थानीय आवश्यकताओं, उपलब्धता और अभावो की जानकारी एकत्रित कर उन्हे लिपिबद्ध करते हुए उक्त विषयों को उपलब्ध करा कर शासन प्रशासन को समय-समय पर अवगत कराते हुए उनका समुचित निराकरण एवं समाधान कराने का प्रयास किया जायेगा।यात्रा दल में श्याम सुंदर रौतेला, मनोज इष्टवाल,बीएस मेहता,ललित पंत,जीवन जोशी,मोहन बिष्ट ,कैलाश सुयाल,भूपेंद्र भट्ट,भगवान पंत,दिनेश नेगी,हिमांशु खुल्बे,गौरव जोशी,भूपेंद्र बिष्ट, खड़क सिंह रावत,भगत सिंह धर्मशक्तू शामिल हैं। इस मौके पर गणेश सिंह रावत,प्रहलाद सिंह रावत,नारायण सिंह रावत,सरपंच गिरधर सिंह मपवाल,नेत्र सिंह पंचपाल,महेश सिंह धर्मशक्तू,महिला मंगल दल अध्यक्ष ममता देवी,भवानी देवी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : देवभूमि के भास्कर बने युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत, जानिए इनके बारे में

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top