उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: कुमाऊनी भाषा प्राथमिक शिक्षा के पाठ्यक्रम में हुई शामिल, देश के नौनिहालों को संस्कृति से भी जोड़ेगा विद्यालय

Uttarakhand News: प्रसार प्रशिक्षण केंद्र बागजाला में जनपद के सर्वागींण विकास हेतु वर्ष 2022-23 के लिए प्रभारी मंत्री रेखा आर्य की अध्यक्षता में रुपये 51 करोड़ 51 लाख का परिव्यय जिला योजना समिति की बैठक में अनुमोदित किया गया। जनपद के लिए अनुमोदित परिव्यय में से सामान्य के लिए 41 करोड़ 04 लाख, अनुसूचित जाति उप योजना के लिए 09 करोड़ 88 लाख व अनुसूचित जनजाति उप योजना के लिए 59 लाखका परिव्यय अनुमोदित है।

बैठक में सचिव,जिला योजना समिति/जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने समिति को अवगत कराया गया कि जनपद में कुमाऊँनी बोली को बढ़ावा देने के लिये रामनगर, कोटाबाग व हल्द्वानी में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में कुमाऊँनी बोली को प्राथमिक शिक्षा के पाठ्यक्रम में समावेशित कर शुरू किया जा रहा है। शिक्षा विभाग द्वारा कुमाऊँनी बोली का पाठ्यक्रम तैयार कर लिया गया है। इससे बोली का व्यापक प्रचार प्रसार, बोली होगा। जनपद में ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा व पलायन को रोकने के लिए सामुदायिक पर्यटन को बढ़ावा दिया जाएगा जिसके तहत गांव के गांव लिए जाएंगे। सामुदायिक पर्यटन के अंतर्गत पर्यवरण व प्रकृति के अनुरूप घरों का निर्माण किया जाएगा।

विकास खंड रामगढ़ से औद्योनिक पर्यटन को शुरू किया जाएगा। औद्यानिक पर्यटन के माध्यम से स्वरोजगार को बढ़ावा व पर्यवरण संरक्षित किया जाएगा। इसके लिए रामगढ़ में फलपट्टी विकसित की जा रही हैं । हल्द्वानी व उसके आसपास के क्षेत्र में भूजल स्तर में वृद्धि हेतु लघु सिंचाई विभाग द्वारा जिला योजना से 23 स्थानों पर रिचार्ज शाफ़्ट निर्मित किये जायेंगे। प्रति रिचार्ज शाफ़्ट से प्रति वर्ष लगभग 52 लाख लीटर भूजल स्तर में वृद्धि होंगी। इस सम्बंध में जनपद प्रभारी मंत्री ने आगामी वर्ष में रिचार्ज से हुए लाभ की समीक्षा रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश अधिशासी अभियंता लघु सिंचाई को दिए हैं ।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- गांव के ये युवा हेल्थ और एनवायरमेंट के लिए है सजग, छोटी सी उमर में नेपाल तक कर चुके हैं सफर

बैठक में प्रभारी मंत्री श्रीमती रेखा आर्य ने समस्त विभागीय अधिकारियों को जनकल्याणकारी योजनाओं का अधिकाधिक प्रचार प्रसार करने के निर्देश दिए ताकि आम जन को योजनाओं की पूर्ण जानकारी हो सके व योजनाओं से लाभान्वित हो सके। इसके साथ ही प्रभारी मंत्री ने स्थानीय प्राथमिकता के आधार पर योजनाओं का चयन करने के निर्देश दिए। कहा कि आगामी जिला योजना हेतु त्रिस्तरीय पंचायती व्यव्यस्था के अनुसार की योजनाओं को चिन्हित किया जाए । कहा कि योजनाओं का मूल भावना को साकार रूप दिया जा सके इसके लिए जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों आपसी समन्वय से समाज हित मे कार्य को पूर्ण करें।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- इस खास मौके पर जब पिछौडे में नजर आयी इस जिले की SSP, पारंपरिक वेशभूषा में दिया यह संदेश

जनपद हेतु अनुमोदित रुपये 51करोड़ 51 लाख में से पर्यटन को 6 करोड़ 65 लाख, उद्यान को 06 करोड़, निजी लघु सिंचाई को 02 करोड़ 20 लाख, कृषि को 01 करोड़ 20 लाख, लोनोवि को 03 करोड़ 50 लाख, माध्यमिक शिक्षा को 02 करोड़ 20 लाख, स्वास्थ्य को 01 करोड़ 70 लाख, प्राथमिक शिक्षा को 01 करोड़ का परिव्यय अनुमोदित हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: रोडवेज बसों में जुलाई से लागू होगी विशेष प्रोत्साहन योजना, जानिए क्या है यह प्रोत्साहन योजना

इस अवसर पर अध्यक्ष जिला पंचायत बेला तोलिया, विधायक डा0 मोहन सिंह बिष्ट, दीवान सिंह,सरिता आर्या, सुमित हृदयेश, ब्लाक प्रमुख कमलेश कैड़ा, आशा देवी, जिला पंचायत उपाध्यक्ष आन्नद दरम्वाल के साथ ही जिलाधिकारी
धीराज सिंह गर्ब्याल, एसएसपी पंकज भटट, मुख्य विकास अधिकारी डा0 संदीप तिवारी,प्रभागीय वनाधिकारी चन्द्रशेखर, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 भागीरथी जोशी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 बीएस जंगपांगी, मुख्य उद्यान अधिकारी डा0 नरेन्द्र कुमार, जिला अर्थसंख्याधिकारी डा0 मुकेश नेगी, अपर जिला संख्याधिकारी बीएस राणा, कमल मेहरा, सुरेश लाल, एच एस मिश्रा, निजी सचिव एल एस नगरकोटी, के साथ ही जिला पंचायत सदस्य व विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

1 Comment

1 Comment

  1. I was pretty pleased to uncover this great site. I want to to thank you for your time just for this wonderful read!! I definitely liked every little bit of it and i also have you book marked to look at new information in your blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top