उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: देवभूमि कि इस युवती ने बदली अल्मोड़ा गांव की सूरत,किए बहुत ही सराहनीय कार्य

Uttarakhand News: मनुष्य यदि ठान ले तो वह क्या नहीं कर सकता । असंभव को भी संभव कर सकता है यदि इरादे मजबूत हो तो। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है अल्मोड़ा के एक गांव की महिला प्रधान ने।

जी हां आज हम बात कर रहे हैं अल्मोड़ा के द्वाराहाट के बड़ेत गांव की महिला प्रधान रेखा बिष्ट की। रेखा बिष्ट इन दिनों सोशल मीडिया पर खासा छाई हुई है , पर इसके पीछे जो वजह है वह बहुत ही असंभव सी है किंतु सत्य है।

दरअसल अल्मोड़ा के द्वाराहाट के बड़ेत गांव की महिला प्रधान रेखा बिष्ट ने अपने कामों से सभी के दिलों को जीता है और सब लोग उनकी खूब तारीफ कर रहे हैं। ग्राम प्रधान ने अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए गांव के विकास को जिस तरीके से किया है वह वाकई सराहनीय है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: टेस्ट क्रिकेट में पहाड़ के ऋषभ पंत का जलवा, सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ा

कुछ समय पहले बड़ेत गांव की स्थिति ठीक नहीं थी। उत्तराखंड के दूसरे गांव की तरह वहां पर भी बहुत सी समस्याएं थी । ग्राम प्रधान रेखा ने ग्राम प्रधान बनने के बाद वहां तेजी से विकास किया। रेखा बिष्ट ने गांव में पक्की सड़क बनवाई । रेखा बिष्ट ने गांव का जो रास्ता कच्चा था उसे पक्का बनवा कर सराहनीय कार्य किया है । इससे पहले कच्चे रास्ते पर बहुत सारे लोगों की गिरने की शिकायतें भी आई । इस शिकायत को हमेशा के लिए दूर करने के लिए रेखा ने उस कच्ची सड़क को पक्की सड़क में परिवर्तित कर दिया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि की ये बेटी बनी सेना में मेजर, गौरव के पल देवभूमि के लिए

इसके अतिरिक्त रेखा बिष्ट ने जल संरक्षण का कार्य भी खूब बढ़-चढ़कर किया है । जल संरक्षण का कार्य उन्होंने इस वजह से किया है जिससे कि हर साल गर्मियों में होने वाली पानी की समस्या को कम किया जा सके। रेखा बिष्ट ने इतना ही नहीं मनरेगा के तहत चेक डैम बनवाया और मई और जून में भी इससे पानी भरा है। इस जगह से आसपास के नॉले धारे भी बचे हुए हैं। साथ ही 25 सालों से भी अधिक समय से टूटी भी कई पुरानी नालियों को ठीक करवाया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि के इस लाल ने साउथ अफ्रीका में तोड़ा धोनी का रिकॉर्ड

चेक डैम के पानी से इस गांव के बंजर पड़ी खेतों में जैविक खेती की जा रही है । यदि बात करें रेखा की शिक्षा की तो उन्होंने फार्मेसी की है , और m.a. तक की पढ़ाई की है । आगे भविष्य को लेकर रेखा बिष्ट के बहुत ही बड़े हौसले हैं वह कहती हैं कि उन्हें अपने गांव को आदर्श गांव की लिस्ट में शामिल करना है । बहरहाल देखा के द्वारा किए गए कार्यों की सभी लोग सराहना कर रहे हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top