उत्तराखण्ड

उत्तराखंड: हेम्पक्रीट से बना देवभूमि में एक अनोखा होमस्टे,जानिए

Uttarakhand News : कहते हैं कि अगर इरादे बुलंद हो तो क्या नहीं हो सकता इसी बात को सच करते हुए दिखाया है आर्किटेक्ट नम्रता कंदल और गौरव दीक्षित ने। दरअसल उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले में इन दोनों मिल कर एक ऐसा घर बनाया है जो की कल्पनाओं से परे है।

नम्रता और गौरव के द्वारा बना यह घर खूबसूरत तो है ही साथ ही इस घर को रेन हार्वेस्टिंग करना , सूर्य की रोशनी से उर्जा लेना और वातावरण को शुद्ध बनाना भी आता है। नम्रता और गौरव के द्वारा बना हुआ यह घर ऋषिकेश से 35 किलोमीटर दूर है।

इन दोनों के द्वारा बनाया गया यह घर इको फ्रेंडली होम स्टे है । गौरव और नम्रता बताते हैं कि इसे बनाने में उन्होंने जो मटेरियल इस्तेमाल किया है वह हेम्प से बना स्पेशल कंक्रीट है इसे हेम्पक्रीट कहा जाता है। इस हेम्पक्रीट से बना घर मौसम में होने वाले परिवर्तनों अथवा मौसमी मार से बचाने के लिए उपयुक्त होता है ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: देवभूमि का मान बढ़ाया इन दो बेटियों ने, दीजिये बधाई

यानी कि यह कह सकते हैं कि यह एक तरीके से वेदर रेसिस्ट है इसके साथ साथ अगर इसकी मजबूती की बात की जाए तो वह भी बहुत ज्यादा मजबूत है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडःबांग्लादेश में छाया हल्द्वानी MBPG कॉलेज का प्रशांत, टीम इंडिया को जिताया गोल्ड मेडल

हेम्प भांग की प्रजाति का एक पौधा होता है जिसका काफी उत्पादन इसके बीच के लिए होता है । इन बीजों का उपयोग जहां एक ओर खाद्यान्न के तौर पर होता है उसके साथ दूसरी ओर हेम्प के रेशे से कई तरह की वस्तुएं भी बनाई जा सकती हैं और बनाई जा रही हैं।

800 स्क्वायर फीट के इलाके में बने इस घर की पूरी अवधारणा जीरो एनर्जी मॉडल पर की गई है ।अगर इसकी छत की बात की जाए तो इस घर के छत पर 3 किलो वाट का एक सोलर पैनल लगा हुआ है और इसके साथ ही 4000 लीटर का अंडर वॉटर हार्वेस्टिंग टैंक है।

यह भी पढ़ें 👉  पवनदीप राजन और अरुणिता कांजीलाल की केमिस्ट्री ने जीता फैंस का दिल, इंटरनेट पर छा गया Video

वेस्ट वाटर फैसिलिटी से शुद्ध होकर आए पानी का इस्तेमाल इस घर में लगे हुए फूल पौधों बाग बगीचे की सब्जियों आदि को सीखने में होता है यानी कि हर चीज का सही इस्तेमाल किया जाता है इस घर में।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top