उत्तराखण्ड

पहाड़ की बेमिसाल परंपरा है हरेला, क्यों मनाया जाता है, क्या है महत्व जानें…

उत्तराखंड में हरेला पर्व बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। जुलाई माह में मनाए जाने वाला यह लोक-त्यौहारों में एक प्रमुख त्यौहार है हरेला। यह लोकपर्व हर साल ‘कर्क संक्रांति’ को मनाया जाता है। अंग्रेजी तारीख के अनुसार, यह त्यौहार हर वर्ष सोलह जुलाई को होता है। लेकिन कभी-कभी इसमें एक दिन का अंतर हो जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार, जब सूर्य मिथुन राशि से कर्क राशि में प्रवेश करता है, तो उसे कर्क संक्रांति कहते हैं। तिथि-क्षय या तिथि वृद्धि के कारण ही यह पर्व एक दिन आगे-पीछे हो जाता है।

बोये जाते हैं सात प्रकार बीज
इस पर्व के लिये हर घर में 9 दिन पहले पूजा स्थान में किसी जगह या छोटी डलियों में मिट्टी बिछा कर सात प्रकार के बीज जैसे- गेंहूँ, जौ, मूँग, उड़द, भुट्टा, गहत, सरसों आदि बोते हैं और नौ दिनों तक उसमें जल आदि डालते हैं। बीज अंकुरित हो बढ़ने लगते हैं। हर दिन सांकेतिक रूप से इनकी गुड़ाई भी की जाती है और हरेले के दिन कटाई। यह सब घर के बड़े बुज़ुर्ग या पंडित करते हैं। पूजा ,नैवेद्य, आरती आदि का विधान भी होता है। कई तरह के पकवान बनते हैं।

नव-जीवन और विकास से जुड़ा है यह त्यौहार…
सभी सातों प्रकार के बीजों से अंकुरित हरे-पीले रंग के तिनकों को देवताओं को अर्पित करने के बाद घर के सभी लोगों के सर पर या कान के ऊपर रखा जाता है। घर के दरवाजों के दोनों ओर या ऊपर भी गोबर से इन तिनकों को सजाया जाता है।इस लोक-त्यौहार और परम्परा का संबंध उर्वरता, खुशहाली, नव-जीवन और विकास से जुड़ा है। कुछ लोग मानते हैं कि सात तरह के बीज सात जन्मों के प्रतीक हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- पहाड़ की इस बेटी के जज्बे को सलाम, ऐसे निभाई जिम्मेदारी और कायम की बड़ी मिसाल

बुजुर्ग ऐसे देते हैं आशीर्वाद

“जी रया जागि रया आकाश जस उच्च,
धरती जस चाकव है जया स्यावै क जस बुद्धि,
सूरज जस तराण है जौ सिल पिसी भात खाया,
जाँठि टेकि भैर जया दूब जस फैलि जया…”

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: इस वजह से पवनदीप राजन के म्यूजिक वीडिओज़ में नहीं दिखेंगी अरुणिता कांजीलाल

चावल भी सिल में पीस के खाएं…, दूब की तरह फैलो…
इस गीत का अर्थ है: “जीते रहो जागृत रहो। आकाश जैसी ऊँचाई, धरती जैसा विस्तार, सियार की सी बुद्धि, सूर्य जैसी शक्ति प्राप्त करो। आयु इतनी दीर्घ हो कि चावल भी सिल में पीस के खाएं और बाहर जाने को लाठी का सहारा लो,दूब की तरह फैलो।”

यह भी पढ़ें 👉  कॉलर बॉम्ब में जिमि शेरगिल के साथ देखने को मिली हल्द्वानी की सिद्धि, रिलीज हुई थ्रिलर फिल्म

हरेले के दिन पंडित भी अपने यजमानों के घरों में पूजा आदि करते हैं और सभी लोगो के सर पर हरेले के तिनकों को रखकर आशीर्वाद देते हैं। लोग परिवार के उन लोगों को जो दूर गए हैं या रोज़गार के कारण दूरस्थ हो गए हैं, उन्हें भी पत्र द्वारा हरेले का आशीष भेजते हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top