उत्तराखण्ड

हल्द्वानी में कैंसर रोगियों को फ्री में मिलेगा 12000 तक का इलाज,पहाड़ के लोगों के लिए अच्छी खबर

हल्द्वानी- कैंसर को यूं ही सबसे घातक बीमारियों में से एक नहीं माना जाता। विशेषज्ञ तो यही मानते हैं कि इस बीमारी के इलाज के लिए मानसिक और आर्थिक क्षमता मजबूत होना बेहद जरूरी है। अब हल्द्वानी के मेडिकल कॉलेज ने कैंसर रोगियों को बड़ी राहत प्रदान की है। अब कॉलेज के अधीन स्वामीराम कैंसर इंस्टीट्यूट में कैंसर रोगियों को 12000 रुपए तक के इंजेक्शन फ्री में लगाए जाएंगे।

गौरतलब है कि आयुष्मान योजना के कारण आर्थिक रूप से कमजोर कई परिवारों को अस्पतालों में इलाज कराना आसान हो गया है। सुशीला तिवारी अस्पताल में आयुष्मान कार्ड धारक, बीपीएल कार्ड धारकों को काफी समय से पूरा निशुल्क इलाज मिल रहा है। करीब 220 दवाएं, जो अस्पताल में उफलब्ध हैं, वह भी दी जाती हैं।

हालांकि जिनके पास आयुष्मान कार्ड नहीं है, ऐसे रोगियों को डयलिसिस से जुड़ी सामग्री, कैंसर के इलाज की दवाएं आदि खरीदनी पड़ जाती हैं। अब दवाइयां महंगी भी होती हैं। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने एक योजना बनाई है। प्रबंधन 220 दवाओं को सवा तीन सौ करने जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: (शाबास)-पहाड़ की बेटी हिमानी बनी भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट, खुशी से झूमा परिवार…

बता दें कि आने वाले समय में स्वामीराम कैंसर इंस्टीट्यूट में कैंसर के इलाद में लगने वाले 12 हजार तक के इंजेक्शन सभी रोगियों को फ्री में उपलब्ध कराने की योजना है। साथ ही सुशीला तिवारी अस्पताल में डायलिसिस की सामग्री भी फ्री में दी जाएगी। एंटीबायोटिक की संख्या भी बढ़ाने की योजना है। गौरतलब है कि पहली बार डायलिसिस में 15-20 हजार का खर्चा आता है। बाद में जो तीन से चार हजार हो जाता है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: उत्तराखंड की उर्वशी बनी सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा फॉलोअर्स बटोरने वाली पहली ' मिस यूनिवर्स '

माना जा रहा है कि 25 दिनों में प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। इसके बाद रोगियों को लाभ मिलना शुरू हो जाएगा। अभी की योजनाओं के मुताबिक अस्पताल का सात करोड़ रुपए खर्च होता है। लेकिन फ्री इलाज की सेवाओं को बढ़ाने के बाद अस्पताल को करीब 20 करोड़ तक खर्च आएगा। ऐसे में रोगियों को फायदा तो मिलना लाजमी है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top